राहत की खबर: दिल्ली हुई कुछ बेहतर, हवा की गुणवत्ता में हुआ थोड़ा सुधार
ताज़ातरीन

राहत की खबर: दिल्ली हुई कुछ बेहतर, हवा की गुणवत्ता में हुआ थोड़ा सुधार

राष्ट्रीय राजधानी की हवा की गुणवत्ता में बुधवार को हवा की दिशा में बदलाव के कारण थोड़ा सुधार देखने को मिला, जिसने आस-पास के क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर पराली जलाए जाने के बावजूद राहत पहुंचाई। हालांकि यह थोड़े समय के लिए होगी।

Yoyocial News

Yoyocial News

राष्ट्रीय राजधानी की हवा की गुणवत्ता में बुधवार को हवा की दिशा में बदलाव के कारण थोड़ा सुधार देखने को मिला, जिसने आस-पास के क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर पराली जलाए जाने के बावजूद राहत पहुंचाई। हालांकि यह थोड़े समय के लिए होगी।

यह दिल्ली के निवासियों के लिए एक राहत के रूप में आया, शहर में लगातार छह दिनों तक गंभीर श्रेणी की वायु गुणवत्ता दर्ज की गई थी, जो कि पराली जलने और प्रतिकूल हवा की गति में वृद्धि के कारण हुई थी।

दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक दोपहर के समय 383 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा, जो मंगलवार को 476 था।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, दिल्ली में 36 में से 12 प्रदूषण निगरानी स्टेशन ने गंभीर वायु गुणवत्ता सूचकांक रीडिंग दिखाई। मुंडका और बवाना क्षेत्र में स्थिति सबसे खराब रही।

दिल्ली के पड़ोसी क्षेत्र - गाजियाबाद, फरीदाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा - बहुत खराब वायु गुणवत्ता की स्थिति में प्रवेश कर रहे हैं। गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा की हवा की गुणवत्ता खराब बनी हुई है, वायु गुणवत्ता 388 और 384 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर थी।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के 'सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च' के अनुसार, "दिल्ली का एक्यूआई थोड़े सुधार के साथ बहुत खराब श्रेणी में आ गया है।"

इसने कहा, "ट्रांसपोर्ट लेवल की हवा की दिशा में बदलाव के कारण बड़े पैमाने पर पराली जलाए जाने के बावजूद उल्लेखनीय राहत आई है।"

हालांकि, वायु निगरानी प्रणाली ने कहा कि वायु गुणवत्ता में सुधार अल्पकालिक होगा। इसने कहा, "13 नवंबर को गिरावट की संभावना है। यह मुख्य रूप से अपेक्षित शांत हवाओं और उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर हवा के बहने के कारण होगा।"

सफर के अधिकारियों ने कहा, "दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 में स्टबल बर्निग (पराली जलना) शेयर लगभग नगण्य है और प्रतिकूल ट्रांसपोर्ट लेवल हवाओं के साथ आज 3 प्रतिशत कम है। 5 नवंबर को, दिल्ली के वायु प्रदूषण में स्टबल बर्निग का हिस्सा बढ़कर 42 प्रतिशत हो गया था, जो इस सीजन में अब तक का सबसे अधिक है।"

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news