प्लाज्मा थेरेपी को कोविड प्रबंधन के दिशानिर्देशों से हटाया

भारत में अब तक व्यापक रूप से कोविड रोगियों के इलाज के लिए सबसे प्रभावी चिकित्सा के रूप में प्लाज्मा थेरेपी इस्तेमाल की जा रही है, सरकार ने कोविड -19 पर देश के क्लिनिकल प्रबंधन दिशानिर्देशों से प्लाज्मा थेरेपी को हटा दिया है।
प्लाज्मा थेरेपी को कोविड प्रबंधन के दिशानिर्देशों से हटाया

भारत में अब तक व्यापक रूप से कोविड रोगियों के इलाज के लिए सबसे प्रभावी चिकित्सा के रूप में प्लाज्मा थेरेपी इस्तेमाल की जा रही है, सरकार ने कोविड -19 पर देश के क्लिनिकल प्रबंधन दिशानिर्देशों से प्लाज्मा थेरेपी को हटा दिया है। यह कदम एक विशेषज्ञ समूह के सुझाव के बाद आया है, जिसमें पाया गया कि यह थेरेपी गंभीर कोविड रोगियों में अप्रभावी थी।

निष्कर्षों का संज्ञान लेते हुए, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने वयस्क कोविड -19 रोगियों के प्रबंधन के लिए क्लिनिकल मार्गदर्शन को संशोधित किया है और प्लाज्मा थेरेपी को हटा दिया है।

आईसीएमआर ने यह सुनिश्चित करने के बाद निर्णय लिया कि प्लाज्मा थेरेपी ज्यादा फायदेमंद नहीं है। यह पुर्नप्राप्ति टेस्ट दस्तावेजों की जांच और वैश्विक साक्ष्य के संश्लेषण पर विचार पर आधारित था जो प्लाज्मा थेरेपी के उपयोग का समर्थन नहीं कर रहा है।

भारत ने पहले प्लाज्मा थेरेपी की प्रभावकारिता का अध्ययन करने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा और नियंत्रित टेस्ट किया था। पिछले साल सितंबर में सामने आए इस अध्ययन से पता चला है कि प्लाज्मा थेरेपी कोविड-19 से मरने वाले लोगों को बचाने में विफल रही।

हाल ही में, ब्रिटिश मेडिकल जर्नल, लैंसेट ने इस बात की पुष्टि करते हुए मजबूत सबूत दिखाए कि प्लाज्मा कोविड -19 अस्पताल में भर्ती होने वाली मौतों को कम करने में प्रभावी नहीं है।

आईसीएमआर के फैसले की घोषणा सोमवार को की गई, इसके बाद शुक्रवार को आईसीएमआर नेशनल टास्क फोर्स फॉर कोविड -19 की बैठक हुई। बैठक में सभी सदस्यों ने कई मामलों में इसकी अप्रभाविता और अनुचित उपयोग का हवाला देते हुए कोविड -19 उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी को दूर करने के पक्ष में मतदान किया।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news