37 साल नाैकरी, 64 एनकाउंटर... फिर खुद खत्म कर ली जिंदगी, सुसाइड नोट में पूर्व DSP ने लिखी हैरान करने वाली वजह
ताज़ातरीन

37 साल नाैकरी, 64 एनकाउंटर... फिर खुद खत्म कर ली जिंदगी, सुसाइड नोट में पूर्व DSP ने लिखी हैरान करने वाली वजह

डीएसपी चंद्रा बेउर थाना के मित्रमंडल काॅलाेनी फेज-2 में रहते थे। वे एसटीएफ के डीएसपी रहे। साेनपुर में रेल डीएसपी से 2012 में रिटायर हुए। उन्हें ड्यूटी के दाैरान 2 बार गाेली भी लगी पर बच गए थे।

Yoyocial News

Yoyocial News

बिहार से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, यहां एक 68 वर्षीय पूर्व डीएसपी ने लाइसेंसी पिस्टल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। साथ ही एक सुसाइड नोट भी लिखा है, जिसमें उनके मौत की वजह हैरान करने वाली है।

बता दें पूर्व डीएसपी कृष्ण चंद्रा ने अपनी 37 साल की पुलिस की नाैकरी में 64 एनकाउंटर किये है। पूरे राज्य भर में कृष्ण चंद्रा एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर के नाम से मशहूर थे। उन्होंने परिवार और पुलिस महकमे के लिए एक सुसाइड नोट छोड़ा है, इसमें उन्होंने गंभीर डिप्रेशन का शिकार होने का जिक्र किया। वे 16 साल से बीमारी का इलाज करा रहे थे, लेकिन इससे उबर नहीं पाए।

डीएसपी चंद्रा ने पत्नी और 3 बच्चों के नाम सुसाइड नाेट में लिखा 'मुझे माफ कर देना। डिप्रेशन के कारण महीनों से साेया नहीं हूं। अब मुझसे यह दुख बर्दाश्त नहीं हाे रहा। इसलिए मैं यह कदम उठाने पर मजबूर हूं। बंटी बेटे तुम्हें एसबीआई ब्रांच जाकर मेरी पेंशन बंद करवानी हाेगी। मां की पेंशन चालू करवानी हाेगी। मेरा माेबाइल चालू रखना हाेगा, क्याेंकि बैंक, गैस, बिजली और इनकम टैक्स के लिए यह जरूरी है।'

वहीं, बेउर थानेदार काे संबाेधित करते हुए लिखा 'मैं पिछले 16 साल से गंभीर मानसिक तनाव का शिकार हूं। काफी इलाज करवाया पर सभी बेअसर रहा। काॅलाेनी के संताेष सिन्हा की प्रताड़ना के कारण मेरा डिप्रेशन चरम पर पहुंच गया। उनकी प्रताड़ना के कारण आत्महत्या कर रहा हूं।'

डीएसपी चंद्रा बेउर थाना के मित्रमंडल काॅलाेनी फेज-2 में रहते थे। वे एसटीएफ के डीएसपी रहे। साेनपुर में रेल डीएसपी से 2012 में रिटायर हुए। उन्हें ड्यूटी के दाैरान 2 बार गाेली भी लगी पर बच गए थे।

उनके बेटे बंटी ने बताया कि मंगलवार सुबह मां नीचे थी। मैं पापा के बेड रूम के बगल वाले कमरे में था। करीब 8 बजे गाेली चलने की आवाज सुनाई दी। पापा के रूम में गए ताे देखा कि वे फर्श पर पड़े थे। पास में उनकी पिस्टल पड़ी थी।

डीएसपी चंद्रा के दाेस्त रिटायर्ड डीएसपी अंजनी कुमार सिन्हा ने बताया '1975 में मेरे साथ ही दाराेगा बहाल हुए। चंद्रा 1985 में इंस्पेक्टर और 1998 में डीएसपी बने। उनकी जहां भी पाेस्टिंग रही, अपराधियाें से लाेहा लिया। वे गरीबाें के मददगार थे। जुल्म का शिकार काेई गरीब उनके पास आता ताे वे फाैरन एक्शन में आते थे। वे गरीबाें के साथ धरने पर भी बैठ जाते थे। कई बच्चियाें की शादी कराई और गरीब बच्चाें काे किताबें बांटी थीं।'

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news