Amphan: अभी 180 किमी प्रति घंटा है महातूफान की रफ्तार, 195 की रफ्तार से बंगाल पहुंचेगा, भारी नुकसान पहुंचाने की है क्षमता
ताज़ातरीन

Amphan: अभी 180 किमी प्रति घंटा है महातूफान की रफ्तार, 195 की रफ्तार से बंगाल पहुंचेगा, भारी नुकसान पहुंचाने की है क्षमता

बताया गया है कि करीब 195 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से अम्फान तूफान 20 मई की शाम तक पश्चिम बंगाल के तट पर पहुंचेगा। भारतीय मौसम विभाग के डीजी का कहना है कि 'अम्फान' में बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाने की क्षमता है और कोरोना काल में यह बड़ी चुनौती है

Yoyocial News

Yoyocial News

चक्रवाती तूफान अम्फान (Cyclone Amphan) लगातार विकराल रूप लेता जा रहा है और और इसके चलते अब ओडिशा के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ ही भारी बारिश के हालात हैं. इस चेतावनी के बाद ओड़िसा सरकार 11 लाख लोगों को इन इलाकों से निकालने की तैयारी में जुट गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शाम चार बजे इसे लेकर उच्चस्तरीय बैठक भी बुलाई। बताया गया है कि करीब 195 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से अम्फान तूफान 20 मई की शाम तक पश्चिम बंगाल के तट पर पहुंचेगा। अभी इसकी रफ्तार 180 किमी प्रति घंटा बताई गई है.

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक एम महापात्रा का कहना है कि इस तूफान में बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाने की क्षमता है. वहीं एनडीआरएफ (NDRF) के डीजी ने कहा कि यह हमारे लिए दोहरी चुनौती है क्योंकि यह तूफान कोरोनाकाल में आया है. उन्होंने कहा कि राहत कार्य के लिए हमारी 53 टीमें स्टैंड बाय पर तय्यार हैं।

एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान के अनुसार, इस बात की पूरी आशंका है कि ओडिशा और प. बंगाल महातूफान अम्फान से बुरी तरह से प्रभावित होंगे. ओडिशा में एनडीआरएफ की 13 और प. बंगाल में 17 टीम तैनात की गई है. पीएम द्वारा ली गई समीक्षा बैठक में फैसला हुआ है कि लोगों को एयरलिफ्ट करने के लिए भी एनडीआरएफ टीमों की तैनाती की जाएगी.

इस बीच तैयारियों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार शाम एक बड़ी बैठक बुलाई, जिसमें तैयारियों का जायजा लिया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ अम्फान तूफान को लेकर बैठक की. देश के अलग-अलग हिस्सों में इस तूफान का क्या असर हो सकता है, इस पर बात हुई. बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे.

बैठक में प्रधानमंत्री ने संभावित परिस्थितियों के बारे में जानकारी ली. खतरे की स्थिति में क्या किया जाना चाहिए और इसकी क्या तैयारी है, इस बारे में भी उन्होंने विस्तार से चर्चा की. लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए एनडीआरएफ की क्या तैयारी है, इस बारे में प्रधानमंत्री ने जाना. बैठक में एनडीआरएफ के डीजी ने अम्फान को लेकर शुरू किए गए रेस्पॉन्स प्लान के बारे में जानकारी दी. डीजी ने बताया कि तूफान के इलाकों में 25 एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई हैं और 12 टीमों को रिजर्व रखा गया है. देश के अलग-अलग हिस्सों में 24 एनडीआरएफ टीमों को स्टैंडबाई में भी रखा गया है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news