तेलंगाना की महिलाओं ने बीज गेंदों से सबसे बड़ी सूक्ति रचकर बनाया गिनीज रिकॉर्ड

तेलंगाना के महबूबनगर जिले के महिला स्वयंसहायता समूहों ने सोमवार को 10 दिनों में 2.08 करोड़ बीज गेंदों को रोल करके उससे सबसे बड़ी सूक्ति वाक्य बनाते हुए गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड में जगह बनाई।
तेलंगाना की महिलाओं ने बीज गेंदों से सबसे बड़ी सूक्ति रचकर बनाया गिनीज रिकॉर्ड

तेलंगाना के महबूबनगर जिले के महिला स्वयंसहायता समूहों ने सोमवार को 10 दिनों में 2.08 करोड़ बीज गेंदों को रोल करके उससे सबसे बड़ी सूक्ति वाक्य बनाते हुए गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड में जगह बनाई।

महबूबनगर में आयोजित एक कार्यक्रम में, महिलाओं ने सूक्ति वाक्य बनाने के लिए बीज गेंदों की व्यवस्था की। एसएचजी महिलाओं द्वारा बनाई और लगाई गई दो करोड़ बीज गेंदों ने महबूबनगर को हेटेरो ग्रीन बेल्ट में बदल दिया।

पलामुरु जिला महिला समाख्या (पीजेडएमएस) या महबूबनगर जिले के महिला स्वयंसहायता समूह के संघ और नगर क्षेत्रों में गरीबी उन्मूलन मिशन (एमईएमपीए) की महिलाओं ने तेलंगाना मंत्री वी. श्रीनिवास गौड़ और वरिष्ठ अधिकारियों के नेतृत्व में रिकॉर्ड बनाया।

2,097 एकड़ में फैले केसीआर अर्बन इको पार्क में ड्रोन की मदद से सीड बॉल लगाए गए।

गिनीज वल्र्ड रिकॉर्डस सर्टिफिकेट में लिखा है, "सबसे बड़ा सीड बॉल सेंटेंस पीजेडएमएस, डॉ. वी. श्रीनिवास गौड़, एस. वेंकट राव, आईएएस, डीआरडीए, एमईएमपीए और हेटेरो ग्रुप ने भारत के तेलंगाना में 12 जुलाई 2021 को हासिल किया था।

मंत्री ने बाद में रिकॉर्ड ग्रीन इंडिया चैलेंज और सांसद जोगिनिपल्ली संतोष कुमार को समर्पित किया।

मंत्री ने कार्यक्रम का आयोजन संतोष कुमार की मौजूदगी में किया। उन्होंने महबूबनगर रेलवे सभागार से गिनीज वल्र्ड चैलेंज का समन्वय किया।

गौड़ ने जिला कलेक्टर, अपर कलेक्टर, पीजेडएमएस के अधिकारियों, डीआरडीए, एमईपीएमए, एसएचजी समूह की महिलाओं, हेरेटो ग्रुप के सदस्यों और गिनीज वल्र्ड रिकॉर्डस की टीम को धन्यवाद दिया।

संतोष कुमार ने इस रिकॉर्ड मेकिंग इवेंट में हिस्सा लेने वाले सभी लोगों का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने उन्हें और ग्रीन इंडिया चैलेंज की उनकी पहल को भव्य आयोजन का हिस्सा बनाने के लिए मंत्री को धन्यवाद दिया।

पिछले साल, इंटरनेशनल वंडर बुक ऑफ रिकॉर्डस ने जिले में हरियाली बढ़ाने और वन क्षेत्र को बढ़ाने के लिए ढेटर द्वारा की गई पहल को मान्यता दी थी।

पीजेडएमएस ने 284 से अधिक गांवों से एसएचजी का गठन किया था और नौ दिनों में 1.14 करोड़ से अधिक सीड बॉल तैयार किए थे और उन्हें राज्य में वन क्षेत्रों के आसपास के खुले क्षेत्रों में मैन्युअल रूप से और ड्रोन के माध्यम से बिखेरा गया था।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news