जम्मू कश्मीर में तीन अलग-अलग मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 5 आतंकियों को मौत के घाट उतारा

शोपिया में मारे गए दोनों आतंकी लश्कर-ए-ताइबा और पुलवामा के त्राल में मारे गए दोनों आईईडी एक्सपर्ट अंसार गजवात-उल हिंद (एयूजीएच) के सदस्य थे।
जम्मू कश्मीर में तीन अलग-अलग मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 5 आतंकियों को मौत के घाट उतारा

सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर में 24 घंटे में तीन अलग-अलग मुठभेड़ों में पुलिस के सहायक उप निरीक्षक अशरफ अहमद की हत्या में शामिल आईएसजेके के आतंकी रफीक अमहद व एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) विशेषज्ञ समेत पांच आतंकियों को मार गिराया। शोपिया में मारे गए दोनों आतंकी लश्कर-ए-ताइबा और पुलवामा के त्राल में मारे गए दोनों आईईडी एक्सपर्ट अंसार गजवात-उल हिंद (एयूजीएच) के सदस्य थे। 

इनके पास से चार एके राइफलें, चार एके मैगजीन और 32 कारतूस बरामद हुए हैं। इससे पहले शुक्रवार तड़के सुरक्षाबलों ने अनंतनाग के बिजबिहाड़ा में पांच भाजपा नेताओं की हत्या में शामिल हिजबुल आतंकी कुलगाम निवासी शहजाद सेह को मार गिराया था। इस प्रकार सुरक्षा बलों ने बीते 48 घंटे में छह आतंकियों को मार गिराने में सफलता हासिल की।

पुलिस के अनुसार, शनिवार देर रात एक सूचना के आधार पर पुलिस ने अनंतनाग जिले बिजबिहाड़ा के खुश रोई कलां में तलाशी अभियान चलाया। जिसमें देर रात आतंकी संगठन आईएसजेके का दहशतगर्द रफीक अहमद मारा गया वह 22 दिसंबर को एएसआई अशरफ अहमद की हत्या में शामिल था। रात में सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर रखा है। वहां कुछ और आतंकियों के मौजूद होने की संभावना है। 

इससे पहले शनिवार तड़के आतंकियों की मौजूदगी की सूचना के आधार जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सेना की 44 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) और सीआरपीएफ के साथ मिलकर इलाके में साझा तलाशी अभियान छेड़ा। इस दौरान एक मकान में छुपे आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग की इसके बावजूद एसओपी का पालन करते हुए जवानों ने पहले उन्हें आत्मसमर्पण करने को कहा, जब वो नहीं मानें तो जवाबी कार्रवाई की गई, जिसमें दो आतंकियों को मार गिराया गया।

उनके शव घटनास्थल से बरामद किए गए हैं। मारे गए दहशतगर्दों की पहचान शोपियां के ब्रारीपोरा के साजिद अहमद चक और पुलवामा के आचन लिटर के राजा बासित याकूब के रूप में की गई है। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार सज्जाद 14 अक्तूबर, 2020 जबकि बासित 2 दिसंबर, 2021 से सक्रिय था। दोनों आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा के लिए काम करते थे और कई आतंकी आपराधिक वारदातों में शामिल आतंकी समूहों का हिस्सा थे। इसके अलावा दोनों आतंकी युवाओं को आतंकी गुटों में शामिल करने में भी शामिल थे।

त्राल में मारे आतंकी कई हमलों में थे शामिल

दोपहर के बाद पुलवामा जिले के त्राल के हरदुमीर इलाके में जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना की 42 आरआर और सीआरपीएफ के जवानों का संयुक्त तलाशी अभियान के दौरान आतंकियों से सामना हुआ। मुठभेड़ में आतंकियों को आत्मसमर्पण करने का मौका दिया गया लेकिन उन्होंने जवानों पर फायरिंग कर दी। जवानों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया और दो आतंकियों को मार गिराया।

आईजी कश्मीर विजय कुमार के अनुसार, मारे गए आतंकियों की पहचान नदीम भट और गुलाम रसूल उर्फ आदिल के रूप में हुई है रसूल एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) विशेषज्ञ था।दोनों आतंकी अंसार गजवात-उल हिंद (एयूजीएच) के हैं। इनके पास से दो एके राइफल बरामद हुई हैं। दोनों आतंकी आईईडी विस्फोट और ग्रेनेड फेंकने सहित कई आतंकी घटनाओं में शामिल थे। आईजीपी कश्मीर ने बिना किसी नुकसान के तीन सफल अभियानों में 48 घंटे के भीतर 5 आतंकवादियों को खत्म करने के लिए पुलिस और सुरक्षा बलों की संयुक्त टीमों को बधाई दी।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.