UNICEF की दुनिया से अपील, 'अफगानिस्तान के बच्चों को अकेला न छोड़ें'

यूनिसेफ ने भविष्यवाणी की है कि यदि मौजूदा प्रवृत्ति जारी रहती है, तो अफगानिस्तान में 10 लाख से कम उम्र के बच्चों को गंभीर तीव्र कुपोषण का सामना करना पड़ेगा।
UNICEF की दुनिया से अपील, 'अफगानिस्तान के बच्चों को अकेला न छोड़ें'

अफगानिस्तान के बच्चों की जरूरतें पहले से कहीं ज्यादा बढ़ गई हैं, दुनिया उन्हें अब ऐसे हीं नहीं छोड़ सकती। यह टिप्पणी यूनिसेफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने युद्ध ग्रस्त देश का दौरा समाप्त करने के बाद की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यूनिसेफ दक्षिण एशिया के क्षेत्रीय निदेशक जॉर्ज लारिया-अडजेई ने रविवार को कहा कि बच्चों ने हाल के हफ्तों में बढ़े हुए संघर्ष और असुरक्षा की सबसे भारी कीमत चुकाई है।

उन्होंने कहा, न केवल कुछ को अपने घरों को छोड़ने को मजबूर किया गया है, बल्कि वे अपने स्कूलों और दोस्तों से बिछड़ गए हैं। वे बुनियादी स्वास्थ्य सेवा से भी वंचित हैं जो उन्हें पोलियो, टेटनस और अन्य बीमारियों से बचा सकती हैं।

उन्होंने कहा, "अब, एक सुरक्षा संकट , खाद्य कीमतों में उछाल, एक भीषण सूखा, कोविड -19 का प्रसार, और आने वाली कठोर सर्दी ने बच्चों के लिए जोखिम को और बढ़ा दिया है।"

यूनिसेफ ने भविष्यवाणी की है कि यदि मौजूदा प्रवृत्ति जारी रहती है, तो अफगानिस्तान में 10 लाख से कम उम्र के बच्चों को गंभीर तीव्र कुपोषण का सामना करना पड़ेगा।

लारिया-अडजेई ने कहा कि 22 लाख लड़कियों सहित 40 लाख से अधिक बच्चे स्कूल से बाहर हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि लगभग 30,0000 युवाओं को अपने घरों से भागने के लिए मजबूर होना पड़ा और उनमें से बहुतों ने ऐसे दृश्य देखे हैं जिन्हें किसी बच्चे को कभी नहीं देखना चाहिए।

अधिकारी ने कहा, "बच्चे और किशोर मानसिक स्वास्थ्य सहायता की सख्त जरूरत में चिंताओं और भय से जूझ रहे हैं।"

अफगानिस्तान को सहायता में कटौती पर विचार करने वाले कुछ मानवीय साझेदारों के साथ, लारिया-अडजेई ने स्वास्थ्य केंद्रों को चालू रखने, स्कूलों को खोलने और गंभीर रूप से कुपोषित बच्चों के इलाज के लिए उपलब्ध सेवाओं के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं होने पर चिंता व्यक्त की।

यूनिसेफ छह दशकों से अधिक समय से अफगानिस्तान में है और पूरे देश में अपनी उपस्थिति बनाए हुए है।

एजेंसी वर्तमान में विस्थापित लोगों के लिए शिविरों में मोबाइल स्वास्थ्य और पोषण टीमों का समर्थन कर रही है, और बच्चों के अनुकूल स्थान, पोषण केंद्र और टीकाकरण स्थल स्थापित कर रही है। साथ ही अतिरिक्त जीवन रक्षक आपूर्ति की तैयारी कर रही है और समुदाय-आधारित शिक्षा कक्षाओं में हजारों छात्रों का समर्थन कर रही है।

हालांकि, लारिया-अडजेई ने जोर देकर कहा कि अधिक संसाधनों की सख्त जरूरत है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news