उपराष्ट्रपति ने 3 विद्वानों को दिए असम के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार

जर्मनी स्थित लेखक-विद्वान बरुआ, जो गुवाहाटी स्थित कॉटन कॉलेज और बनारस विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र थे, ने दिल्ली विश्वविद्यालय में आधुनिक इतिहास पढ़ाया, असम के विशेष संदर्भ में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन पर कई किताबें और शोधपत्र लिखे।
उपराष्ट्रपति ने 3 विद्वानों को दिए असम के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने रविवार को कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट की असम शाखा और मेघालय के शिलांग चैंबर की ओर से प्रख्यात लेखक और विद्वान निरोद कुमार बरुआ सहित तीन को राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय योगदान के लिए लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई पुरस्कार से सम्मानित किया। राज्य के पहले मुख्यमंत्री और भारतरत्न लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई की स्मृति में असम सरकार द्वारा स्थापित इस पुरस्कार में 5 लाख रुपये का नकद इनाम, एक प्रशस्तिपत्र और एक शॉल दिया जाता है।

जर्मनी स्थित लेखक-विद्वान बरुआ, जो गुवाहाटी स्थित कॉटन कॉलेज और बनारस विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र थे, ने दिल्ली विश्वविद्यालय में आधुनिक इतिहास पढ़ाया, असम के विशेष संदर्भ में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन पर कई किताबें और शोधपत्र लिखे।

कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट की असम शाखा, जिसे 9 जनवरी, 1946 को महात्मा गांधी द्वारा स्थापित किया गया था, ने राष्ट्रीय एकता बनाने और अहिंसक प्रतिरोध के आदशरें को बढ़ावा देने के लिए बड़े प्रयास शुरू किए थे। ट्रस्ट महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए काफी योगदान दे रहा है।

प्रसिद्ध संगीत मंडली मेघालय के शिलांग चैंबर चोइर (एससीसी), जिसे 2001 में स्थापित किया गया था, ने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्लेटफार्मों में प्रदर्शन किया है और बहुत प्रशंसा प्राप्त की है।

एससीसी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के राष्ट्रपति भवन में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की नवंबर 2010 की भारत यात्रा के दौरान राष्ट्रपति भोज में भी प्रदर्शन किया।

इस अवसर पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि गोपीनाथ बोरदोलोई एक दूरदर्शी नेता थे, जिन्होंने आधुनिक असम की नींव रखी।

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में बोरदोलोई की भूमिका को रेखांकित करते हुए और तत्कालीन प्रांतीय असम सरकार के प्रधान मंत्री के रूप में, मुख्यमंत्री ने कहा कि बोरदोलोई ने सबसे कठिन समय के दौरान अत्यधिक दृढ़ता और दूरदर्शिता के साथ राज्य का नेतृत्व किया।

सरमा ने कहा, महात्मा गांधी के आशीर्वाद से बोरदोलोई ने तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान के साथ असम को ग्रुप सी में रखने के कैबिनेट मिशन के प्रस्ताव का पुरजोर विरोध किया और यह उनके नेतृत्व के कारण था कि असम भारत का हिस्सा बना रहा। बोरदोलोई को हमेशा उनके रुख के लिए याद किया जाएगा। तत्कालीन सैयद मुहम्मद सादुल्ला सरकार की 'अधिक भोजन उगाओ' नीति के खिलाफ, संविधान में छठी अनुसूची को शामिल करने में योगदान, बेल्ट और ब्लॉक का निर्माण और कैबिनेट मिशन की समूह प्रणाली के खिलाफ खड़ा होना।

गुवाहाटी के श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में आयोजित समारोह में असम के राज्यपाल जगदीश मुखी, सांस्कृतिक मामलों के मंत्री बिमल बोरा समेत अन्य लोग मौजूद थे।

Note: Yoyocial.News लेकर आया है एक खास ऑफर जिसमें आप अपने किसी भी Product का कवरेज करा सकते हैं।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.