हर बार मिलना जरूरी है क्या ? सोनिया से मुलाकात के सवाल पर बोलीं ममता

दरअसल, ममता से सोनिया से मुलाकात नहीं करने के बारे में सवाल पूछा गया था और जिस लहजे में उन्होंने जवाब दिया उससे साफ पता चल रहा है कि वह कांग्रेस को अब थोड़ा भी स्पेस देना नहीं चाहती हैं।
हर बार मिलना जरूरी है क्या ? सोनिया से मुलाकात के सवाल पर बोलीं ममता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपनी पार्टी का राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार करने के लिए अन्य पार्टी के नेताओं को तोड़ने का काम शुरू कर दिया है और इसमें उन्हें सफलता भी मिलती दिख रही है। बीते मंगलवार को जहां कांग्रेस नेता कीर्ति आजाद और पूर्व कांग्रेस सांसद अशोक तंवर टीएमसी में शामिल हो गए वहीं बुधवार रात मेघालय के पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा के साथ कांग्रेस के 11 विधायक भी टीएमसी में शामिल हो गए। इन सबके बीच अब ममता बनर्जी के एक बयान ने कांग्रेस को एक और बड़ा झटका दिया है। दरअसल, ममता से सोनिया से मुलाकात नहीं करने के बारे में सवाल पूछा गया था और जिस लहजे में उन्होंने जवाब दिया उससे साफ पता चल रहा है कि वह कांग्रेस को अब थोड़ा भी स्पेस देना नहीं चाहती हैं।

सोनिया से मिलना संवैधानिक रूप से बाध्यकारी थोड़े ही है: ममता 

कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर बनर्जी ने कहा इस बार मैंने मुलाकात के लिए सिर्फ प्रधानमंत्री का समय मांगा था। सभी नेता पंजाब के चुनाव में व्यस्त हैं। काम पहले है...हर बार हमें सोनिया गांधी से क्यों मिलना चाहिए? यह संवैधानिक रूप से बाध्यकारी थोड़े ही है? बता दें कि बनर्जी के कांग्रेस अध्यक्ष के साथ घनिष्ठ संबंध थे। लेकिन हाल के घटनाक्रम, जैसे प्रमुख कांग्रेस नेताओं का टीएमसी में पलायन, गोवा की राजनीति में इसके प्रवेश और मेघालय के नेताओं को तोड़ना समेत अन्य कारकों ने दोनों दलों के बीच तनाव पैदा कर दिया है।

यूपी में भाजपा को हराने के लिए हम अखिलेश यादव की मदद करेंगे: ममता

ममता बनर्जी ने कहा कि यदि तृणमूल कांग्रेस उत्तर प्रदेश में भाजपा को पराजित करने में मदद कर सकती है तो हम जाएंगे...यदि अखिलेश यादव हमारी मदद चाहते हैं तो हम मदद करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी पार्टी ने गोवा में शुरुआत की है और कुछ राज्यों में क्षेत्रीय दलों को भी कड़ा संघर्ष करना चाहिए।

वाराणसी भी जाएंगी ममता 

ममता ने कहा कि वह वाराणसी भी जाएंगी क्योंकि कमलापति त्रिपाठी का परिवार अब हमारे साथ है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के परिवार के राजेशपति और ललितेशपति त्रिपाठी अक्टूबर में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

30 नवंबर को दो दिवसीय दौरे पर महाराष्ट्र जाएंगी ममता

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह जब 30 नवंबर को दो दिवसीय दौरे पर महाराष्ट्र जाएंगी तब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार से मुलाकात करेंगी।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news