Amphan leaves bad impact on Tamilnadu
Amphan leaves bad impact on Tamilnadu
ताज़ातरीन

Amphan को लेकर बड़ी चिंता: महातूफान की रफ्तार क्या दिल्ली-यूपी, बिहार-झारखंड को भी परेशान करेगी?

एनडीआरएफ (NDRF) के डीजी ने कहा कि यह हमारे लिए दोहरी चुनौती है क्योंकि यह तूफान कोरोनाकाल में आया है. एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान के अनुसार, इस बात की पूरी आशंका है कि ओडिशा और प. बंगाल महातूफान अम्फान से बुरी तरह से प्रभावित होंगे.

Yoyocial News

Yoyocial News

चक्रवाती तूफान अम्फान को लेकर एनडीआरएफ (NDRF) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने कहा है कि यह एक भीषण चक्रवाती तूफान है. लेकिन इसके मद्देनजर राहत और बचाव के लिए खासी तैयारियां की गई हैं. त्य्यारियों के लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक भी की, जिसमें उनको बताया गया है कि एनडीआरएफ की 25 टीमें तैनात कर दी गई हैं. जबकि 12 अन्य को तैयार रखा गया है. इस बैठक में गृहमंत्री अमित शाह, मुख्य सलाहकार पीके मिश्रा, कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और सरकार के कई अन्य अधिकारी मौजूद थे.

एनडीआरएफ (NDRF) के डीजी ने कहा कि यह हमारे लिए दोहरी चुनौती है क्योंकि यह तूफान कोरोनाकाल में आया है. उन्होंने कहा कि राहत कार्य के लिए हमारी 53 टीमें स्टैंड बाय पर तय्यार हैं।एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान के अनुसार, इस बात की पूरी आशंका है कि ओडिशा और प. बंगाल महातूफान अम्फान से बुरी तरह से प्रभावित होंगे. ओडिशा में एनडीआरएफ की 13 और प. बंगाल में 17 टीम तैनात की गई है. पीएम द्वारा ली गई समीक्षा बैठक में फैसला हुआ है कि लोगों को एयरलिफ्ट करने के लिए भी एनडीआरएफ टीमों की तैनाती की जाएगी.

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक एम महापात्रा का भी कहना है कि इस तूफान में बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाने की क्षमता है. महापात्रा ने बताया कि इस ये तूफान 20 मई को भारत की तटीय सीमाओं को छूएगा और इस दौरान कई इलाकों में भारी बारिश होगी. लेकिन जब उनसे पूछा गया कि क्या इसका असर उत्तर भारत पर भी पड़ेगा तो उन्होंने बताया कि यह ओडिशा, पश्चिम बंगाल को छूते हुए बांग्लादेश चला जायेग. उन्होंने बताया कि अम्फान साइक्लोन की वजह से पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों के साथ-साथ असम और मेघालय के कुछ इलाकों में भी तेज़ हवाएं और भारी बारिश का पूर्वानुमान है. लेकिन इसका असर बाकी भारत पर नहीं होगा. यानी बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ सहित बाकी भारत पर इसका कोई असर नहीं होगा.

न्यूज चैनेल एनडीटीवी से बातचीत में डॉ. एम मोहपात्रा ने कहा, अम्फान साइक्लोन का लैंडफॉल 20 मई को दोपहर और शाम के बीच पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में होने का पूर्वानुमान है. इसका लैंडफॉल पश्चिम बंगाल में दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच में रहने की उम्मीद है. अम्फान साइक्लोन की वजह से पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों के साथ-साथ असम और मेघालय के कुछ इलाकों में भी तेज़ हवाएं और भारी बारिश का पूर्वानुमान है.

आपको बता दें कि चक्रवाती तूफान अम्फान रविवार को बंगाल की खाड़ी के ऊपर भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है जिससे ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल के कई तटीय जिलों में तेज रफ्तार हवाओं के साथ भारी बारिश की संभावना है. कोलकाता में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जी के दास ने बताया कि यह तूफान 20 मई की दोपहर और शाम के बीच में बहुत भीषण चक्रवाती तूफान के तौर पर पश्चिम बंगाल में सागर द्वीपसमूह और बांग्लादेश के हतिया द्वीपसमूहों के बीच पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटीय क्षेत्रों से गुजर सकता है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news