Union Ministry of Education का निर्देश, 12वीं तक के सभी छात्रों के लिए योग बनेगा स्कूली पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा

दुनियाभर में मंगलवार 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया है। वहीं एनईपी 2020 में भी योग शिक्षा को महत्व दिया गया है।
Union Ministry of Education का निर्देश, 12वीं तक के सभी छात्रों के लिए योग बनेगा स्कूली पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा

दुनियाभर में मंगलवार 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया है। वहीं एनईपी 2020 में भी योग शिक्षा को महत्व दिया गया है। इसी को देखते हुए अब केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय देशभर के स्कूलों में योग को एक अनिवार्य विषय के रूप में शिक्षा से जोड़ने जा रहा है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि बालवाटिका से लेकर कक्षा 12वीं तक योग को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाने की तैयारी हो रही है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने बताया कि स्कूली छात्रों के लिए योग वैकल्पिक नहीं बल्कि अनिवार्य विषय के तौर पर शामिल किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री का कहना है कि योग को दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने के लिए जरूरी है कि हमारे विश्वविद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में योग पर शोध और चचार्एं लगातार चलती रहें।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने योग फॉर हूम्यूनिटी जैसी थीम सार्वजनिक योग कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इसके उपरांत उन्होंने कहा आज के तनावपूर्ण और भागदौर भरी जिंदगी में योग फॉर हूम्यूनिटी जैसी थीम और भी अधिक प्रासंगिक है।

आज योग ही है जो मानवता को स्वस्थ और निरोग जीवन का विश्वास दे रहा है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की कि हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय योग को अपने पाठ्यक्रम का हिस्सा बना रहा है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि योग जैसी हमारी सांस्कृतिक धरोहर को विश्व कल्याण का माध्यम बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार और योग फॉर हूम्यूनिटी थीम को सम्पूर्ण मानवता तक पहुंचाने के लिए यूनाइटेड नेशन को धन्यवाद देता हूं। योग, स्वास्थ्य और वेलनेस के लिए एक वैज्ञानिक पद्धति है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news