Delhi EV Charging Station: स्लो चार्जिंग पर तीन और फास्ट चार्जिंग पर 10 रुपए प्रति यूनिट शुल्क देना होगा

दिल्ली में सभी सुविधाओं से लैस देश के पहले सात ईवी चाजिर्ंग स्टेशन शुरू किए गए हैं। स्लो चाजिर्ंग पर तीन रुपए और फास्ट चाजिर्ंग पर 10 रुपए प्रति यूनिट शुल्क लिया जाएगा।
Delhi EV Charging Station: स्लो चार्जिंग पर तीन और फास्ट चार्जिंग पर 10 रुपए प्रति यूनिट शुल्क देना होगा

दिल्ली में सभी सुविधाओं से लैस देश के पहले सात ईवी चाजिर्ंग स्टेशन शुरू किए गए हैं। स्लो चाजिर्ंग पर तीन रुपए और फास्ट चाजिर्ंग पर 10 रुपए प्रति यूनिट शुल्क लिया जाएगा।

यह चाजिर्ंग स्टेशन डीटीसी के राजघाट डिपो के अलावा आईपी एस्टेट, कालकाजी, नेहरू प्लेस, महरौली, द्वारका सेक्टर-2 और द्वारका सेक्टर-8 में चालू किए गए हैं, जबकि दिल्ली में पहले से ही दो हजार चाजिर्ंग प्वाइंट्स चालू हैं।

राजघाट डिपो में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्लीवालों ने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को अपनाना शुरू कर दिया है। दिल्ली बड़ी तेजी से देश की ईवी कैपिटल बन रही है। उन्होंने कहा कि लोगों की सहूलियत के लिए एक एप भी बनाया गया है।

इसकी मदद से लोगों को अपने आसपास स्थित चाजिर्ंग स्टेशन को तलाशने में मदद मिलेगी। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले दो साल में दिल्ली में 60846 इलेक्ट्रिक वाहन खरीदे जा चुके हैं। 2020 में जब हम लोगों ने ईवी पॉलिसी बनाई थी, तब हमें उम्मीद नहीं थी कि इतना जबरदस्त रिस्पॉस मिलेगा।

पिछले साल 25809 इलेक्ट्रिक वाहन खरीदे गए थे, जबकि इस साल बीते सात महीने में ही 29848 ईवी खरीदे जा चुके हैं। पिछले साल की तुलना में इस साल इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में 115 फीसद की वृद्धि हुई है।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 2022 में दिल्ली में जितने वाहन खरीदे गए हैं, उनमें 9.3 फीसद इलेक्ट्रिक वाहन थे। इसमें सबसे ज्यादा दो पहिया इलेक्ट्रिक वाहन खरीदे जा रहे हैं।

पिछले साल के मुकाबले इस साल दो पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद में 57 फीसद की वृद्धि हुई है। करीब 150 से अधिक इलेक्ट्रिक बसें भी खरीदी जा चुकी हैं। अगले हफ्ते 75 इलेक्ट्रिक बसें और आ रही हैं। इसके अलावा, 2023 के अंत के दो हजार और इलेक्ट्रिक बसें दिल्ली में आ जाएंगी।

परिवहन विभाग का कहना है कि वर्ष 2022 से दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2022 में दिल्ली में कुल 3,18,760 वाहनों की बिक्री हुई है, जिसमें 29848 इलेक्ट्रिक वाहन हैं।

अगर हम राज्य स्तर पर बात करें, तो कुल बिक्री के वाहनों में ईवी वाहनों की हिस्सेदारी असम में 7.5 फीसद, कर्नाटक में 5.7 फीसद, महाराष्ट्र में 4.9 फीसद, यूपी में 4.3 फीसद और गुजरात में 4.2 फीसद रही है। वर्ष 2022 में, दिल्ली में इलेक्ट्रिक दो पहिया वाहनों की हिस्सेदारी कुल बेचे गए ईवी का 57 फीसद है।

इसी तरह, बेचे गए कुल इलेक्ट्रिक वाहन में इलेक्ट्रिक चार पहिया वाहनों की हिस्सेदारी 9 फीसद है। दिल्ली अब दो पहिया और चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार बनने की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

मार्च 2022 में दिल्ली में कुल बिक्री के वाहनों में ईवी वाहनों की हिस्सेदारी करीब 12.5 प्रतिशत रही है। ईवी वाहनों की बिक्री की यह उपलब्धि देश के किसी भी अन्य राज्य की तुलना में सबसे अधिक है।

दिल्ली सरकार ने सार्वजनिक परिवहन में भी इलेक्ट्रिक बसों को शामिल किया है। अभी दिल्ली में 150 से अधिक इलेक्ट्रिक बसें चल रही हैं और 2023 के अंत तक दो हजार और इलेक्ट्रिक बसें जुड़ जाएंगी। इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली सरकार चाजिर्ंग प्वाइंट को भी बढ़ा रही है।

अभी दिल्ली में करीब 2000 चाजिर्ंग पॉइंट और बैटरी स्वैपिंग पॉइंट हैं। वहीं, सिंगल विंडो सुविधा के तहत अब तक 500 चाजिर्ंग प्वाइंट लगाए हैं। इसके अलावा, ईवी वाहन मालिकों की सुविधा के लिए सार्वजनिक चाजिर्ंग इंफ्रास्ट्रक्च र को और बढ़ाया जा रहा है।

इसके लिए दिल्ली के हर कोने में अगले तीन महीने में 100 चाजिर्ंग स्टेशन बनने हैं, जिसमें 500 चाजिर्ंग प्वाइंट और बैटरी स्वैपिंग स्टेशन स्थापित किए जाएंगे।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news