अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में

अगर आप लखनऊ शहर के बारे में या यहां घूमने की बारे में जानकारी चाहते हैं तो इसको जरुर पढ़ें।

लखनऊ को कबाब और “नवाबों के शहर” रूप में जाना जाता है जो अपने साहित्य और संस्कृति और वास्तुकला के लिए काफी प्रसिद्ध है।

लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजधानी और एक बहुत बड़ा शहर हैं, जो गोमती नदी के किनारे स्थित है। लखनऊ एक ऐसा शहर है जो अपने आकर्षक पर्यटन स्थलों से पर्यटकों के चेहरे पर एक अनोखी मुस्कान छोड़ देता है। यह शहर समृद्ध औपनिवेशिक इतिहास से लेकर संग्रहालयों तक आधुनिक शहर की सादगी की भव्यता को एक साथ प्रदर्शित करता है।

पुराना लखनऊ शहर ज्यादातर हलचल, जीवंत गलियों कबाब, बिरयानी आउटलेट और लाखनवी चिकेन बाजार के बाजार के अलावा थोक आभूषण भंडार के लिए भी जाना जाता था, लेकिन नया लखनऊ विभिन्न संस्कृतियों के लोगों की मेजबानी करना है और चौड़ी सड़कों, शॉपिंग मॉल और पार्कों के साथ योजनाबद्ध रूप से बना हुआ है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
घूमने का प्लान बना रहें तो यहाँ जरूर जाएँ, जानें बोधगया दर्शनीय स्थल का इतिहास और यात्रा से जुड़ी सभी जानकारी

लखनऊ का इतिहास :-

लखनऊ शहर को “नवाबों के शहर” और “तहज़ीब के शहर” के रूप में भी जाना जाता है। इसके बारे में ऐसा माना जाता है कि भगवान राम के भाई लक्ष्मण ने गोमती नदी के किनारे इस शहर की नीव रखी थी, तब इस शहर को लक्ष्मणपुर कहा जाता था। हालांकि इस शहर को केवल मुगल शासन के दौरान 18 वीं शताब्दी में देखा गया था।

बता दें कि यह शहर पारंपरिक अवध प्रदेश का एक प्रान्त था जो दिल्ली सल्तनत द्वारा शासित था। नवाबों के शासन के समय यह शहर भोजन, संगीत, कला, नृत्य, हस्तशिल्प आदि सहित सभी क्षेत्रों में विकसित हुआ। बाद में इस शहर को ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने हाथों में ले लिया। लखनऊ शहर ने बहुत सारे स्वतंत्रता आंदोलनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। साल 1947 में स्वतंत्रता के बाद लखनऊ को उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी बना दिया गया।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
हरिद्वार घूमने का प्लान कर रहे तो जान लें इस दर्शनीय स्थल की कुछ खास-खास बातें

नवाबों का शहर लखनऊ :-

लखनऊ गोमती नदी के किनारे स्थित नवाबों का शहर है जो अपने नवाबी अंदाज की वजह से पर्यटकों के दिल जीत रहा है। ऐसा माना जाता है कि इस शहर का निर्माण लक्ष्मण द्वारा किया गया है। नवाबों की पूर्व राजधानी, शहर कभी एक कलात्मक केंद्र था जो इसके कई भव्य स्मारकों से स्पष्ट होता है। लखनऊ शहर 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के उपकेंद्र होने के साथ इस शहर का इतिहास आज भी बेहद खास है।

अगर आप लखनऊ शहर के बारे में या यहां घूमने की बारे में जानकारी चाहते हैं तो इसको जरुर पढ़ें।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
द्वारकाधीश मंदिर द्वारका के दर्शन और यात्रा से जुड़ी पूरी जानकारी, पढ़ें यहाँ

लखनऊ के ऐतिहासिक स्मारक बड़ा इमामबाड़ा :-

बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ शहर के सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है। इस स्मारक का नाम लखनऊ के नवाब के नाम पर रखा गया था जिसे इसका निर्माण करवाया गया था, यह मुस्लिमों के लिए पूजा का एक महत्वपूर्ण स्थान है। हर साल मुहर्रम के धार्मिक त्योहार को मनाने के लिए यहां भारी संख्या में लोग आते है।

Gholam

लखनऊ में घूमने की जगह हजरतगंज मार्केट :-

हजरतगंज मार्केट लखनऊ में खरीदारी करने और घूमने के लिए एक प्रमुख केंद्र है जिस अपना एक लंबा इतिहास है। इस जगह में पहले से बहुत बड़ा बदलावा आया है और यह लखनऊ के केंद्रीय शॉपिंग आर्केड के रूप में काम करता है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
दार्जिलिंग के टॉप पर्यटन और दर्शनीय स्थल की जानकारी

लखनऊ में पर्यटन स्थल लखनऊ चिड़ियाघर :-

लखनऊ चिड़ियाघर या लखनऊ जू शहर के केद्र में स्थित घूमने की एक अच्छी जगह है जो वन्यजीव उत्साही लोगों का सबसे पसंदिदा अड्डा है। यह विशाल चिड़ियाघर 71.6 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है जिसको 1921 में वेल्स के राजकुमार हिज रॉयल हाइनेस की यात्रा की याद में स्थापित किया गया था।

इस जू को पहले वेल्स के राजकुमार के रूप में जाना जाता था लेकिन बाद में इसका नाम बदल दिया गया था। लखनऊ चिड़ियाघर में रॉयल बंगाल टाइगर, व्हाइट टाइगर, लायन, वुल्फ, ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, गोल्डन तीतर और सिल्वर तीतर जैसे कुछ आकर्षक जानवरों और पक्षियों को उनके प्राकृतिक आवास में देखा जा सकता है। अगर आप लखनऊ शहर की यात्रा के लिए आते हैं तो आपको शहर के इस चिड़ियाघर के जानवरों को देखने जरुर जाना चाहिए।

लखनऊ में पर्यटन स्थल अंबेडकर मेमोरियल पार्क :-

अंबेडकर मेमोरियल पार्क लखनऊ का प्रमुख पर्यटन स्थल है जिसका निर्माण भीमराव अंबेडकर कांशी राम और अन्य जैसे लोगों की याद में बनाया था।

जिन्होंने समानता और मानवीय न्याय के लिए अपने जीवन को समर्पित कर दिया था। सात अरब रुपये के बजट के साथ बना यह पार्क लखनऊ में देखने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
उत्तर प्रदेश की इन जगहों की बात है कुछ खास; नहीं गये है अभी तक, तो जरूर जाएं घूमने

ला मार्टिनियर स्कूल लखनऊ :-

कॉन्स्टेंटिया (ला मार्टिनियर स्कूल) अपने अंग्रेजी अतीत के लिए लखनऊ के प्रमुख ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों में से एक है जिसका निर्माण 1845 में शुरू हुआ। बता दें कि इस जगह की खास बात यह है कि यहां पर फ्रेंच मेजर-जनरल क्लाउड मार्टिन का मकबरा है, क्योंकि वो यहां पर निवास करते थे।

लखनऊ में देखने लायक जगह दिलकुशा कोठी :-

दिलकुशा कोठी पहले एक शिकार लॉज था जो ग्रीष्मकालीन महल के रूप में परिवर्तित कर दिया गया था। इस महल का निर्माण 1800 में मेजर गोर द्वारा बारोक शैली में किया गया था, जिसने आजादी के पहले युद्ध के समय कई बड़े प्रभावों का सामना किया था और इस वजह से इसके कुछ टावर और दीवार ही सही स्थिति में हैं।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
Nainital: कम बजट में देखना हो स्वर्ग तो घूम आइये 'नैनीताल', जान लें घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की सारी जानकारी

लखनऊ में देखने की जगह ब्रिटिश रेजीडेंसी :-

ब्रिटिश रेजीडेंसी लखनऊ की एक ऐसी जगह जहां पर 1857 के विद्रोह के दौरान कई अंग्रेजों ने शरण ली थी। यह किला अब खंडहर के रूप बदल गया है। यहां के कब्रिस्तान के पास कई सैकड़ों अंग्रेजों की कब्रें हैं जो घेराबंदी के दौरान मारे गए थे। अब यह खंडहर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित है।

लखनऊ का सबसे लंबा क्लॉक टावर हुसैनाबाद :-

हुसैनाबाद क्लॉक टॉवर को 1881 में बनाया था और तब से आज तक यह भारत का सबसे लंबा क्लॉक टावर है जो 67 मीटर ऊंचा है, जो 14 फीट लंबे पेंडुलम के साथ विक्टोरियन-गोथिक चमक को प्रदर्शित करता है और इसमें 12 पंखुड़ियों वाले फूल के आकार का एक डायल है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
Rajaji National Park- नाम तो सुना होगा, यहाँ जानें और भी बहुत कुछ

लखनऊ के धार्मिक स्थल चंद्रिका देवी मंदिर :-

चंद्रिका देवी मंदिर लखनऊ का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो आशियाना लखनऊ में स्थित है। चंद्रिका देवी मंदिर हिंदू देवी चंडी को समर्पित है जो काली, लक्ष्मी और सरस्वती का संयुक्त रूप है।

इस मंदिर के परिसर में एक तालाब भी स्थित है जहां पर शिव की एक प्रतिमा स्थापित है। इस मंदिर में रोज भारी संख्या में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है इसलिए आपको सुबह के समय इस मंदिर के दर्शन करने के लिए जाना चाहिए।

लखनऊ में घूमने की जगह फन रिपब्लिक मॉल :-

फन रिपब्लिक मॉल लखनऊ में घूमने की अच्छी जगह है जो काफी लोकप्रिय है और शहर से सबसे बड़े मॉल में से एक है। यहां मॉल कई मजेदार गतिविधियों, खेल क्षेत्र, भोजन स्टालों, कपड़ों की दुकान, कॉस्मेटिक स्टोर और कई बड़े ब्रांड आउटलेट्स के भरा हुआ है। बता दें कि इस माल में एक बड़ी पार्किंग और कई अच्छी सुविधाएँ भी हैं।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
पढ़ें गंगोत्री धाम की यात्रा और प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में

लखनऊ के दर्शनीय स्थान जामा मस्जिद :-

जामा मस्जिद लखनऊ शहर के हुसैनाबाद तहसीलगंज में स्थित एक मुस्लिम मस्जिद है जिसको राजा मोहम्मद अली शाह बहादुर ने बनवाया था। ऊंचे चौकोर मंच पर इस मस्जिद का निर्माण दिल्ली की जामा मस्जिद को पार करने के लिए करवाया था। यह मस्जिद चूने के प्लास्टर के साथ एक फैंसी सजावट का द्वारा करती है।

लखनऊ में घूमने वाली जगह मरीन ड्राइव :-

मुंबई की मरीन के नाम पर लखनऊ की एक सड़क का नाम मरीन ड्राइव रखा गया है जो गोमती नगर लखनऊ में गोमती नदी से सटी सड़क की एक शानदार पट्टी है। यह जगह लखनऊ में घूमने वाली सबसे अच्छी जगह है जो खास रूप में युवा भीड़ के बीच एक हैंगआउट स्थान के रूप में काफी लोकप्रिय है। इसके अलावा यह जॉगिंग, साइकिल चलाने, बैठने और आराम करने के लिए बहुत खास जगह है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
दिसंबर- जनवरी में यदि बर्फबारी का लेना है असली मजा, तो अगली ट्रिप के लिए चुनिए इन हिल स्टेशन से

लखनऊ में घूमने लायक जगह डिज्नी वाटर वंडर पार्क :-

डिज़्नी वाटर वंडर पार्क एक वाटर मनोरंजन पार्क है जो कानपुर-लखनऊ रोड के पास 20 एकड़ भूमि में फिला हुआ है। यह पार्क पूरी तरह से मनोरंज , भोजन और रोमांच से भरा हुआ है जो पर्यटकों के लिए कई तरह की गतिविधियों की पेशकश करता है। यह पार्क लखनऊ शहर के सबसे पसंदिता पार्कों में से एक है।

लखनऊ में घूमने की जगह आनंदी वाटर पार्क :-

आनंदी वाटर पार्क लखनऊ शहर में मस्ती करने की एक अच्छी जगह है जो उत्तरी क्षेत्र में सबसे बड़े झरनों में से एक है। यह पार्क फैजाबाद रोड पर लखनऊ के बाहरी इलाके में स्थित है जो पानी के झूलों स्व्मिंग, बाथिंग की मनोरंजक गतिविधियों से भरा हुआ है। इस वाटर पार्क में बच्चों के लिए एक मनोरंजक पार्क और गुड जोन भी है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
हिमाचल में बर्फबारी का आनंद लेना है तो छुट्टियां बढ़ाइए

सआदत अली खान का मकबरा :-

सआदत अली खान का नवाब गाजी-उद-दीन हैदर द्वारा निर्मित एक ऐसा मकबरा है जो अपनी शानदार वास्तुकला के लिए फेमस है। इस मकबरे का निर्माण इंडो-इस्लामिक वास्तुकला शैली में एक विशाल गुंबद के साथ किया गया था।

लखनऊ के दर्शनीय स्थल कैसरबाग पैलेस :-

कैसरबाग पैलेस नवाब वाजिद अली शाह के शासन में 1848-1850 में निर्मित मुगल वास्तुकला के सबसे लोकप्रिय स्मारकों और विदेशी कृतियों में से एक है। अगर आप लखनऊ शहर की यात्रा करने के लिए जाते हैं आपको इस पैलेस को देखने के लिए जरुर जाना चाहिए।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
बच्चों के साथ घूमने का मज़ा है अलग, अपने ही देश में प्रकृति की गोद में... चुनिए इनमें से कोई

लखनऊ में घूमने वाली जगह छत्तर मंजिल :-

छत्तर मंजिल को लोकप्रिय रूप से अम्ब्रेला पैलेस के नाम से भी जाना जाता है जिसका निर्माण नवाब गाजी उद्दीन हैदर द्वारा करवाया गया था और बाद में अवध के शासक और उनकी पत्नियों ने इसका उपयोग किया था। छत्तर मंजिल इंडो-यूरोपियन-नवाबी वास्तुकला का एक शानदार नमूना है जो गोमती नदी के तट पर स्थित है। इस इमारत में बड़े-बड़े भूमिगत कमरे हऔर विशाल गुंबद है।

लखनऊ में घूमने की अन्य जगह :-

चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट :-

चारबाग रेलवे स्टेशन :-

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
केदारनाथ धाम: 'पंच केदार' की ऐसी अनोखी कहानी जब भूमि में समा गए थे शिव..

अमीनाबाद :-

रूमी दरवाज़ा :-

लखनऊ उच्च न्यायालय :-

आलमबाग बस स्टैंड :-

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग: आस्था की ऐसी कहानी जहां दो भागों में विभक्त है ज्योतिर्लिंग, रात्रि विश्राम करते हैं शिव-पार्वती

जनेश्वर मिश्र पार्क :-

हनुमान सेतु :-

सिकंदर बाग़ :-

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
पढ़ें हिंदुओं के चार प्रमुख धामों की कथा विस्तार से, जानें आखिर क्यूँ बनाए गए चार धाम

ड्रीम वर्ल्ड वाटर एम्यूजमेंट पार्क :-

शाही बावली :-

  • सफदर बारादरी

  • हाथी पार्क

  • नवाबगंज पक्षी अभयारण्य

  • 1857 मेमो;रियल म्यूजियम रेजीडेंसी

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
Jagannath Rath Yatra: क्या है जगन्नाथ रथ यात्रा ? जानें इसका महत्व, चार धामों में से एक है जगन्नाथ मंदिर

लखनऊ का स्थानीय भोजन :-

लखनऊ में विभन्न तरह के भोजन उपलब्ध हैं। यहाँ का भोजन इतना ज्यादा स्वादिष्ट है कि आप इसके इसके स्वाद को कभी नहीं भूल सकते। लखनऊ की बिरयानी सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है जिसका स्वाद आपको जरुर चखना चाहिए।

इसके साथ ही गलौटी कबाब लखनऊ की एक खासियत है। इनके अलावा आप लखनऊ में शरमल, नाहरी और कुलचा, खीर, जलेबियाँ, चाट, कोफ्ता, समोसा, कुल्फी, पेठा, कचौरी आदि अनगिनत चीजों का आनंद ले सकते हैं।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
Pitru Paksha 2021: जाने पितृ पक्ष में आखिर क्यूँ है गाय, कौवों और कुत्तों को भोजन कराने का विशेष महत्व

लखनऊ जाने का सबसे अच्छा समय क्या है :-

अगर आप लखनऊ जाने की योजना बना रहे हैं तो बता दें कि यहाँ की यात्रा करने का सबसे अक्टूबर से मार्च का समय सबसे अच्छा है। दिसंबर और जनवरी थोड़ा धूमिल हो सकता है, जिसका मतलब है कि ट्रेनें और उड़ानें देरी से हो सकती है। हालांकि, जनवरी का मौसम सुखद और दर्शनीय स्थलों की यात्रा करने के लिए काफी अच्छा है। यहाँ गर्मियों का मौसम असामान्य रूप से गर्म होता है इसलिए इस मौसम में यात्रा करने से बचना चाहिए। जुलाई-सितंबर के दौरान लखनऊ का दौरा किया जा सकता है, लेकिन बारिश यात्रा में बाधा बन सकती है और आपके दिन की योजनाओं में देरी कर सकती है।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
पातालकोट की रहस्‍यमयी दुनिया, रामायण काल से जुड़ा है इसका इतिहास

लखनऊ कैसे पहुंचें :-

उत्तर प्रदेश की राजधानी होने के नाते, लखनऊ में सभी माध्यमों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। भारत के सभी बड़े शहरों से सीधी उड़ानें लखनऊ को जोड़ती हैं। लखनऊ रेलवे स्टेशन देश के ज्यादातर हिस्सों से भी जुड़ा हुआ है। लखनऊ का सड़क नेटवर्क काफी अच्छा है और नई दिल्ली और यूपी के अन्य प्रमुख हिस्सों से भी बसें उपलब्ध हैं। लखनऊ पहुँचने के लिए आस-पास के शहरों से कैब भी किराए पर ले सकते हैं।

नवाबों का शहर लखनऊ पहुँचने के लिए हवाई यात्रा सबसे सुविधाजनक तरीका है। लखनऊ हवाई अड्डा भारत के प्रमुख शहरों जैसे दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, पटना, चंडीगढ़, बैंगलोर आदि से नियमित रूप से संचालित होने वाली कई एयरलाइनों की मदद से जुड़ा हुआ है। अधिकांश अंतरराष्ट्रीय उड़ानें दिल्ली से होकर लखनऊ पहुंचती हैं। हवाई अड्डे से मुख्य शहर तक पहुंचने के लिए आप बस, टैक्सी और कैब की मदद ले सकते हैं।

अपने साहित्य और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है यह जगह, पढ़ें 'नवाबों के शहर' लखनऊ के बारे में
Vastu Tips: घर में कहाँ होता है ब्रह्म स्थान और क्या होता है इसका महत्व, जानें ज्योतिषी की नजर से

लखनऊ और राज्य के अन्य शहरों के बीच उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा नियमित रूप से लक्जरी और डीलक्स बसें संचालित है। नई दिल्ली, कानपुर, आगरा, वाराणसी, इलाहाबाद, झांसी आदि शहरों से उचित किराए पर कई लक्जरी और बजट बसों से आप यात्रा कर सकते हैं।

भारतीय रेलवे भारत के अन्य हिस्सों से लखनऊ तक पहुँचने के लिए कई मेल और सुपरफास्ट ट्रेनें प्रदान करता है। चारबाग शहर का मुख्य रेलवे जंक्शन है, लेकिन पर्यटक लखनऊ से आलमनगर, गोमती नगर और ऐशबाग जंक्शन भी जा सकते हैं। इसके अलावा एक मुख्य आकर्षण महाराजा एक्सप्रेस है जो लखनऊ के लिए एक शाही सवारी प्रदान करती है।

Note: Yoyocial.News लेकर आया है एक खास ऑफर जिसमें आप अपने किसी भी Product का कवरेज करा सकते हैं।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.