Cholesterol Levels: उम्र के हिसाब से सबका अलग-अलग होता है कोलेस्ट्रॉल लेवल, जाने आपका सही है या नहीं..

यदि आपके रक्त में एलडीएल का उच्च स्तर है, तो फैटी जमा, जिसे प्लाक कहा जाता है, आपके रक्त धमनियों में बनता है। धमनियों में प्लाक की समस्या से दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।
Cholesterol Levels: उम्र के हिसाब से सबका अलग-अलग होता है कोलेस्ट्रॉल लेवल, जाने आपका सही है या नहीं..

उम्र के हिसाब से कोलेस्ट्रॉल का स्तर: 

हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल मोम जैसा पदार्थ होता है। कोलेस्ट्रॉल 2 प्रकार के होते हैं, एक लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एलडीएल) और दूसरा हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एचडीएल)। 

यदि आपके रक्त में एलडीएल का उच्च स्तर है, तो फैटी जमा, जिसे प्लाक कहा जाता है, आपके रक्त धमनियों में बनता है। 

धमनियों में प्लाक की समस्या से दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। वहीं दूसरी तरफ खून में एचडीएल यानी अच्छे कोलेस्ट्रॉल को शरीर के लिए अच्छा माना जाता है।

एक डॉक्टर या विशेषज्ञ एचडीएल, एलडीएल और कुल कोलेस्ट्रॉल को माप सकते हैं। आप गैर-एचडीएल वसा स्तरों को समझ सकते हैं। ये कारक दिल से संबंधित बीमारियों के खतरे को बढ़ाते हैं। तो आइए जानते हैं, आपकी उम्र के हिसाब से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कितना होना चाहिए

19 साल के बच्चों के कोलेस्ट्रॉल का स्तर

एक रिपोर्ट के मुताबिक, 19 साल की उम्र तक के युवाओं के शरीर में कोलेस्ट्रॉल 170mg/dl से कम होना चाहिए। इसमें गैर-एचडीएल 120 मिलीग्राम/डीएल से कम और एलडीएल 100 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए। तो एचडीएल 45 मिलीग्राम/डीएल से अधिक होना चाहिए।

20 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों में कोलेस्ट्रॉल का स्तर

20 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों के लिए कुल शरीर कोलेस्ट्रॉल 125-200 mg/dl के बीच होना चाहिए। दूसरी ओर गैर-एचडीएल स्तर 130 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए और एलडीएल स्तर 100 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए। एचडीएल का स्तर 40 mg/dl या अधिक होना चाहिए।

20 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में कोलेस्ट्रॉल का स्तर

20 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के शरीर में कुल कोलेस्ट्रॉल 125-200 mg/dl की सीमा में होना चाहिए। इसके अलावा, गैर-एचडीएल स्तर 130 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए और एलडीएल स्तर 100 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए। तो एचडीएल का स्तर 50 mg/dl या इससे अधिक होना चाहिए।

विशेषज्ञों की मानें तो कोलेस्ट्रॉल लेवल का संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है। क्‍योंकि कोलेस्‍ट्रॉल लेवल बिगड़ने पर दिल से जुड़ी बीमारियों का डर रहता है। 

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news