दिल्ली: लॉकडाउन के कारण बच्चों का टीकाकरण हुआ बाधित, अब लगेंगे शिविर

दिल्ली: लॉकडाउन के कारण बच्चों का टीकाकरण हुआ बाधित, अब लगेंगे शिविर

कोविड-19 और लॉकडाउन के कारण बच्चों की प्रतिरक्षण की गतिविधियां बाधित हुई हैं। आंशिक अनलॉक के बाद की परिस्थिति में टीकारण और प्रतिरक्षण को एक अनिवार्य आवश्यकता मानते हुए बच्चों को हरसंभव रूप से सुविधाएं बहाल करने का निर्णय लिया गया है।

कोविड-19 और लॉकडाउन के कारण बच्चों की प्रतिरक्षण की गतिविधियां बाधित हुई हैं। आंशिक अनलॉक के बाद की परिस्थिति में टीकारण और प्रतिरक्षण को एक अनिवार्य आवश्यकता मानते हुए बच्चों को हरसंभव रूप से सुविधाएं बहाल करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए दिल्ली में हर महीने प्रतिरक्षण शिविरों के आयोजन किया जाएगा। दिल्ली सरकार में महिला और बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने राजधानी में आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से टीकाकरण और चिकित्सा सेवाओं की सुविधा को प्रदान करने के विषय पर एक समीक्षा बैठक की। इस बैठक में दिल्ली सरकार के महिला और बाल विकास विभाग और स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक के उपरांत दिल्ली महिला और बाल विकास मंत्री ने कहा, "कोविड-19 के दृष्टिगत आज सभी को स्वयं की और अपने आस-पास दूसरे व्यक्तियों की सुरक्षा का ध्यान रखना जरूरी है। इस समय सावधानी और पूर्व उपायों के प्रबंधन को सर्वाधिक प्राथमिकता दी जानी चाहिए, लेकिन बच्चों के स्वास्थ्य और सुरक्षित भविष्य के लिए बाल टीकाकरण कार्यक्रम भी अनिवार्य आवश्यकता है।"

उन्होंने कहा, "इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग को आशा (प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता) और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सहायता से टीकाकरण और प्रतिरक्षण कार्यक्रम को सभी आवश्यक सावधानियों के साथ आरंभ करने का निर्देश दिया गया है।"

दिल्ली सरकार सितंबर में टीकाकरण और प्रतिरक्षण कार्यक्रम की शुरूआत करेगी। इस कार्यक्रम के तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता टीकाकरण के अभियान में चिकित्सा कार्यकर्ताओं को सहयोग प्रदान करेंगे। जबकि आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और आंगनवाड़ी सहायक राजधानी में टीकाकरण शिविरों के आयोजन और समन्वय के कार्य में दाइयों (एएनएम) और मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (आशा) की सहायता करेंगे। प्रत्येक आंगनवाड़ी केंद्र में एक महीने में एक बार टीकाकरण शिविर आयोजित होगा।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी सहायक अपने क्षेत्र में प्रत्येक बच्चे के टीकाकरण को सुनिश्चित करेंगे। वे टीकाकरण शिविर के दौरान ऐसे बच्चों को जुटाएंगे, जिन्हें टीका लगना है। प्रत्येक बच्चे को टीका लगने के समय एक परिचर की उपस्थिति को सुनिश्चित किया जाएंगा। टीकाकरण कार्यक्रम के समय सभी आवश्यक सुरक्षा उपायों के साथ उचित शारीरिक दूरी बरतने का भी ध्यान रखा जाएगा।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news