Corona: मेडिकल स्टाफ से बदसलूकी हुई या 
जबरन खाली कराया मकान तो होगी जेल
हेल्थ 360°

Corona: मेडिकल स्टाफ से बदसलूकी हुई या जबरन खाली कराया मकान तो होगी जेल

ओडिशा में कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों की सेवा करने वाले डॉक्टरों और सभी पैरामेडिकल कर्कोमचारियों को सीएम नवीन पटनायक ने 4 माह का अग्रिम वेतन देने की घोषणा की है।

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों, नर्सिग स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ के खिलाफ बदसलूकी करने या जबरन किराए का मकान खाली करवाने वाले मकान मालिकों के खिलाफ राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली की सरकारें कार्रवाई करेंगी। मेडिकल स्टाफ से जबरन मकान खाली कराने वाले मकान मालिकों के खिलाफ राजस्थान एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1957 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान के चिकित्सा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने आदेश जारी कर सभी जिला कलेक्टर, पुलिस आयुक्त, पुलिस अधीक्षक, नगर परिषद आयुक्त को कार्रवाई करने के लिए अधिकृत किया है। साथ में डॉक्टरों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए है।

वहीं, ओडिशा में कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों की सेवा करने वाले डॉक्टरों को सीएम नवीन पटनायक ने 4 माह का अग्रिम वेतन देने की घोषणा की है। सीएम ने इस दायरे में डॉक्टर के साथ-साथ सभी पारा मेडिकल कर्मचारी भी आएंगे। सीएम की इस घोषणा के मुताबिक डॉक्टरों को अप्रैल से जुलाई माह तक का वेतन अप्रैल महीने में ही दे दिया जाएगा। सीएम ने कहा है कि विपरीत परिस्थिति में काम करने वाले डॉक्टरों की तुलना किसी से नहीं की जा सकती है। उन्होंने डॉक्टरों से खराब व्यवहार करने वालों को तत्काल गिरफ्तार करने का निर्देश भी दिया है।

बता दें मंगलवार को जोधपुर में एक मामला सामने आया था, जिसमें मकान मालिक कोरोना पीडि़तों का इलाज करने वाली महिला डॉक्टर से जबरन मकान खाली करा रहा था। इसके विरोध में डॉक्टर और नर्सिग स्टाफ ने विरोध प्रदर्शन भी किया था। डॉक्टरों का कहना है कि पीडि़तों का इलाज और देखभाल करने के कारण निजी मकान मालिक जबरदस्ती मकान से बेदखल कर रहे हैं और उन्हें हीन भावना से देखा जा रहा है । इसके बाद सरकार ने आदेश निकाल कर स्थिति को स्पष्ट कर दिया। उधर, दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी कार्रवाई करने के स्पष्ट निर्देश दिए हैं।

इसके बाद एम्स रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (RDA) ने कल मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर शिकायत की थी कि मकान मालिक रेजिडेंट डॉक्टरों को घर खाली करने का दबाव बना रहे हैं। किराये पर रहने वाले कई डॉक्टरों ने यह शिकायत की है कि उन्हें मकान मालिक घर में प्रवेश नहीं करने दे रहे। नर्सिंग कर्मचारियों के साथ भी ऐसी घटनाएं हो रही हैं। इस शिकायत के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मामले को गंभीरता से लिया और डॉक्टरों की पूरी मदद करने का आश्वासन दिया था।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news