अब एंजियोप्लास्टी करना हुआ आसान, नहीं करनी पड़ेगी बायपास सर्जरी..सहारा हॉस्पिटल ने मरीज को दिया नया जीवन
हेल्थ 360°

अब एंजियोप्लास्टी करना हुआ आसान, नहीं करनी पड़ेगी बायपास सर्जरी..सहारा हॉस्पिटल ने मरीज को दिया नया जीवन

सहारा हॉस्पिटल के हृदय रोग विशेषज्ञ एवं उनकी टीम ने एक विशेष प्रकार के उपकरण का प्रयोग करते हुए एक ऐसे मरीज की एंजियोप्लास्टी करके उसको नया जीवन दिया, जिससे सामान्यत: मरीजों को बायपास सर्जरी की एकमात्र विकल्प होता है।

Yoyocial News

Yoyocial News

सहारा हॉस्पिटल के हृदय रोग विशेषज्ञ एवं उनकी टीम ने एक विशेष प्रकार के उपकरण का प्रयोग करते हुए एक ऐसे मरीज की एंजियोप्लास्टी करके उसको नया जीवन दिया, जिससे सामान्यत: मरीजों को बायपास सर्जरी की एकमात्र विकल्प होता है। सहारा हॉस्पिटल में दिखाने आए एक मरीज जिनकी एंजियोप्लास्टी 8 साल पहले हुई थी, वह सीने में दर्द की शिकायत होने पर भर्ती हुए। एंजियोग्राफी से पता चला कि उनको जो 8 साल पहले स्टेंट लगाया गया था। वह पूर्णतया बंद हो गया। इसके साथ ही उनकी बाकी दोनों कोरोनरी आर्टरी भी खराब हालत में थी।

डॉ गौतम स्वरूप ने बताया कि यदि ब्लॉकेज बहुत पुराना होता है तो उसमें कैल्शियम इकट्ठा होने से कोरोनरी आर्टरी को सख्त बना देता है और यदि इसमें भी यदि स्टेंट ब्लाक हो गया हो तो उसमें कैल्शियम जल्दी इकठ्ठा हो जाता है। डायबिटीज के मरीजों में ऐसी संभावना ज्यादा रहती है। ऐसे मरीजों में यदि एंजियोप्लास्टी का प्रयास किया जाए तो कैल्शियम इकट्ठा होने की वजह से स्टेंट डालना मुश्किल होता है। यदि उसका पुराना स्टेंट ब्लॉक हो जाए तो यह एंजियोप्लास्टी लगभग असंभव होती है। ऐसे में मरीजों को डाक्टर बायपास सर्जरी की सलाह देते है, क्योंकि इसके बाद यही एकमात्र उपचार बचता है।

डा. गौतम स्वरूप एवं उनकी टीम ने आईवीएल ट्रीटमेन्ट से इस मरीज की एंजियोप्लास्टी करने में सफलता पायी। मरीज की बायपास सर्जरी से बचाया और उसे नया जीवन भी दिया। डा. स्वरूप ने बताया कि आईवीएल तकनीक उन मरीजों के लिए वरदान है जो 70 या 80 वर्ष आयु वाले बुजुर्ग हैं या अन्य कारणों से बायपास सर्जरी नहीं करा सकते हैं। आईवीएल तकनीक बहुत ही सुरक्षित है जो भविष्य में बहुत से लोगों के बायपास सर्जरी से बचा सकता है।

सहारा इंडिया परिवार के सीनियर एडवाइजर श्री अनिल विक्रम सिंह जी ने बताया कि हमारे अभिभावक माननीय सहाराश्री ने ऐसा हॉस्पिटल दिया है, जहां जटिल से जटिल मरीजों को बेहतर उपचार मिल रहा हैं। ऐसे मरीजों को उपचार के लिए दिल्ली और मुम्बई के चक्कर लगाने पड़ते थे लेकिन अब सहारा हॉस्पिटल में एक ही छत के नीचे मरीजों को सभी सुविधा मुहैया करायी जा रही हैं।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news