बार-बार होने वाले स्ट्रोक और दिल के दौरे को रोकने के लिए सही बीपी स्तर क्या हैं?

एक अध्ययन में पाया गया है कि मधुमेह से पीड़ित लोग जिन्हें बार-बार स्ट्रोक आता है, उनके लिए स्ट्रोक या दिल के दौरे जैसे विभिन्न प्रकार के संवहनी रोगों के जोखिम को कम करने के लिए एक सही बीपी सीमा हो सकती है।
बार-बार होने वाले स्ट्रोक और दिल के दौरे को रोकने के लिए सही बीपी स्तर क्या हैं?

एक अध्ययन में पाया गया है कि मधुमेह से पीड़ित लोग जिन्हें बार-बार स्ट्रोक आता है, उनके लिए स्ट्रोक या दिल के दौरे जैसे विभिन्न प्रकार के संवहनी रोगों के जोखिम को कम करने के लिए एक सही बीपी सीमा हो सकती है।

अध्ययन में पाया गया कि ए1 सी के स्तर के साथ अस्पताल में भर्ती लोगों का औसत बीपी के स्तर को निर्धारित करने के लिए एक परीक्षण किया, जिसमें 6.8 प्रतिशत से 7 प्रतिशत की सीमा से अधिक होने पर दिल का दौरा पड़ने जैसी संवहनी घटना होने के साथ-साथ स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है।

कोरिया में सियोल नेशनल यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन के शोधक र्ता मून-कू हान ने कहा, "हम जानते हैं कि मधुमेह होने से स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ सकता है।"

"लेकिन हमारे परिणाम बताते हैं कि एक इष्टतम बीपी का स्तर 6.8 प्रतिशत से 7 प्रतिशत की सीमा में सही है। जो स्ट्रोक और दिल का दौरा या अन्य संवहनी समस्याओं के जोखिम को कम कर सकता है।"

अध्ययन के लिए, जर्नल न्यूरोलॉजी में प्रकाशित, टीम में 70 वर्ष की औसत आयु के साथ मधुमेह वाले 18,567 लोग शामिल थे।

सभी प्रतिभागियों को इस्केमिक स्ट्रोक के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जो रक्त के थक्के के कारण होता है। प्रवेश पर, शोधकर्ताओं ने पिछले दो से तीन महीनों में लोगों के औसत बीपी के स्तर को निर्धारित करने के लिए हीमोग्लोबिन ए 1सी नामक एक परीक्षण किया।

यह परीक्षण चीनी के साथ लेपित रक्त में हीमोग्लोबिन प्रोटीन के प्रतिशत को मापता है। 5.7 प्रतिशत से नीचे के स्तर को सामान्य माना जाता है; 6.5 प्रतिशत या इससे अधिक सामान्यत: मधुमेह का संकेत देते हैं।

प्रतिभागियों का औसत ए1सी 7.5 प्रतिशत रहा है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.