'राष्ट्रपति' डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरी भाषण में चीन पर कसा तंज, जो बाइडेन के लिए छोड़ी चिट्ठी, कहा- 'हम वापस आएंगे'

'राष्ट्रपति' डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरी भाषण में चीन पर कसा तंज, जो बाइडेन के लिए छोड़ी चिट्ठी, कहा- 'हम वापस आएंगे'

Donald Trump Last Speech: डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका के राष्ट्रपति के तौर पर अपने आखिरी भाषण में चीन पर तंज कसा और बाइडेन का नाम नहीं लिया। यहां हैं राष्ट्रपति के तौर पर उनके आखिरी भाषण की मुख्य बातें....

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने विदाई भाषण में देश को सुरक्षित रखने और समृद्ध बनाने में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन के सफल रहने की प्रार्थना की और उन्हें शुभकामनाएं दीं। हालांकि, अभी तक ट्रंप ने सीधे तौर पर बाइडेन को बधाई नहीं दी है। जो बाइडेन आज यानी बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने वाले हैं। इस बीच यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि ट्रंप अब अपनी नई राजनीतिक पार्टी बनाने का ऐलान कर सकते हैं लेकिन इसको लेकर शंका इसलिए है क्योंकि अब उनकी ही पार्टी के नेता उनके समर्थन में नहीं हैं।

राष्ट्रपति ट्रंप और फर्स्ट लेडी मेलानिया बुधवार सुबह ही वाइट हाउस छोड़कर फ्लॉरिडा के अपने रिजॉर्ट के लिए निकले। इस दौरान वे वॉशिंगटन डीसी के बाहर एक सैन्य अड्डे पर फेयरवेल के लिए रुकेंगे। हालांकि, वह और उनकी पत्नी मेलानिया आज बाइडेन के शपथग्रहण समारोह में शामिल नहीं होंगे।

शपथ ग्रहण से पहले जो बाइडेन का ट्वीट- यह अमेरिका के लिए नया दिन

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन कुछ ही घंटों बाद देश के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण से ठीक पहले उन्होंने ट्वीट किया, "यह अमेरिका के लिए नया दिन है।"

डोनाल्ड ट्रंप बुधवार को जो बाइडेन के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो रहे हैं और अंतिम बार राष्ट्रपति के तौर पर व्हाइट हाउस से विदा लेते हुए फ्लोरिडा स्थित अपने स्थायी आवास 'मार-आ-लागो एस्टेट के लिए विमान से रवाना हो गए। ट्रंप (74) ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि वह बाइडेन के राष्ट्रपति और कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति पद के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे। ट्रंप से पूर्व एंड्रयू जॉनसन ने 1869 में नए राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा नहीं लिया था। ट्रंप राष्ट्रपति के हेलीकॉप्टर 'मरीन वन' से व्हाइट हाउस से विदा हुए। रिपब्लिकन ट्रंप को दूसरी बार राष्ट्रपति चुनाव में जीत नहीं मिली। इससे पहले 1992 में जॉर्ज एच डब्ल्यू बुश भी दूसरी बार व्हाइट हाउस नहीं पहुंच पाए थे।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news