भारतीय मूल के विशेषज्ञ पर अमेरिका में लगा साइबरस्टॉकिंग का आरोप

भारतीय मूल के विशेषज्ञ पर अमेरिका में लगा साइबरस्टॉकिंग का आरोप

भारतीय मूल के एक साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट पर अमेरिकी संघीय अदालत में पांच लोगों के साथ साइबर स्टॉकिंग करने का आरोप लगाया गया है, जिनमें एक डिप्टी अभियोजक और उसकी जांच में शामिल एक पुलिस अधिकारी भी हैं।

भारतीय मूल के एक साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट पर अमेरिकी संघीय अदालत में पांच लोगों के साथ साइबर स्टॉकिंग करने का आरोप लगाया गया है, जिनमें एक डिप्टी अभियोजक और उसकी जांच में शामिल एक पुलिस अधिकारी भी हैं। एक्सपर्ट द्वारा इन्हें डराने-धमकाने वाले मैसेजेस भेजे जाते थे। वाशिंगटन के पश्चिमी जिले के लिए कार्यवाहक अटॉर्नी टेसा गोर्मन ने इसकी जानकारी दी है।

उन्होंने कहा, सिटिजन पैनल वाले ग्रैंड ज्यूरी ने प्रथम दृष्टया के आधार पर बुधवार को साइबर स्टॉकिंग के मामले में सुमित गर्ग को दोषी पाया है।

सोमवार को सुमित को हिरासत में ले लिया गया और अब 25 मार्च को उसे न्यायाधीश के सामने पेश किया जाएगा।

अदालत में जमा किए गए दस्तावेजों के अनुसार, मारे गए जजों और अभियोजकों की सूची के साथ सुमित ने स्थानीय जजों को धमकी भरे ईमेल भेजे हैं। इसमें उन्हें हत्या किए जाने की धमकी दी गई है।

दस्तावेजों में इस बात का खुलासा किया गया कि सुमित ने अपनी पहचान छिपाकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और ईमेल के जरिए एक साल की अवधि में तमाम लोगों को जान से मारने, नुकसान पहुंचाने की धमकी दी है। लोगों को भावनात्मक रूप से परेशान किया है।

गर्ग की परेशानी एक महिला के साथ शुरू हुई, जो उस घर में एक कमरा लेकर रहती थी जहां गर्ग अपनी पत्नी के साथ रहता था।

दर्ज शिकायत के मुताबिक, गर्ग ने कथित तौर पर महिला की डायरी पढ़ी थी। इसे पढ़ने के बाद उसे महिला की सेहत, उनके पिछले रिश्ते इत्यादि के बारे में काफी कुछ पता लग चुका था। बाद में इनका उपयोग महिला को डराने-धमकाने के लिए किया जाने लगा।

इसमें आगे कहा गया, गर्ग से परेशान होकर महिला उस घर से चली गई और बाद में गर्ग ने भी महिला से कभी संपर्क नहीं करने का एक समझौता किया था, लेकिन फिर एक स्थानीय अदालत में गर्ग पर महिला, उसके बॉयफ्रेंड और पेशे से वकील महिला के चाचा को साइबर स्टॉक करने का आरोप लगा।

शिकायत में कहा गया, गर्ग ने महिला को जान से मारने और उसके व वकील की पत्नी के साथ दुष्कर्म किए जाने की भी धमकी दी थी। गर्ग ने वकील को शारीरिक रूप से नुकसान पहुंचाने की भी धमकी दी।

कोर्ट में दिए गए दस्तावेजों के मुताबिक, गर्ग ने पहले कभी महिला से कहा था कि वह 'इंटरमिटेंट एक्सप्लोसिव डिस्ऑर्डर' से पीड़ित है। यह एक मानसिक समस्या है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news