बिहार के इस शहर में तो ऐप के जरिए मिल रही सब्जी... पहुंच रहे पंडित, इलेक्ट्रीशियन और  ब्यूटिशियन भी
Yoyo Life

बिहार के इस शहर में तो ऐप के जरिए मिल रही सब्जी... पहुंच रहे पंडित, इलेक्ट्रीशियन और ब्यूटिशियन भी

लॉकडाउन में लोगों की परेशानी कम करने के लिए पटना में एक तरह का नया व्यापार प्रारंभ हुआ, जहां कई स्थनीय ई कॉमर्स कंपनियों ने घर तक सामान पहुंचाने का बीड़ा उठाया। ये कंपनियां घरों तक नाई, ब्यूटिशियन, इलेक्ट्रीशियन, पंडित तक की सुविधा दे रहे हैं।

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर सरकार द्वारा उठाए गए एहतियाती कदमों में जरूर छूट दी गई है लेकिन अभी भी पटना के कई इलाकों के बाजार बंद हैं। जहां खुले भी हैं वहां कई लोग अभी भी जाने से बच रहे हैं। ऐसे में इस लॉकडाउन में लोगों की परेशानी कम करने के लिए पटना में एक तरह का नया व्यापार प्रारंभ हुआ, जहां कई स्थनीय ई कॉमर्स कंपनियों ने घर तक सामान पहुंचाने का बीड़ा उठाया। यहीं नहीं ये कंपनियां घरों तक नाई, ब्यूटिशियन, इलेक्ट्रीशियन, पंडित तक की सुविधा दे रहे हैं।

पटना में ऐसी कंपनियों में के मार्ट, पटना कार्ट, चिकन वाला जैसी कई कंपनियां राशन, सब्जी, फल के साथ-साथ डेयरी उत्पादित वस्तुएं, नॉनवेज आइटम तक घरों तक पहुंचा रहे हैं। पटना कार्ट तो इस लॉकडाउन में पंडित, नाई, इलेक्ट्रीशियन तक की सुविधा आपके घरों तक पहुंचा रही है। इन कंपनियों से लेाग व्हॉटसअप पर या उनके एप्प के जरिए ऑर्डर देकर अपने जरूरत के सामान घरों तक मंगवा रहे हैं। ऐसे में लोगों को घरों में रहकर ही ना केवल सुविधा मिल जा रही है बल्कि इस धंधे से कई लोगों को रोजगार भी मिल गया है। इस सुविधा से सड़कों पर भीड़ भी कम हो रही है।

symbolic image
symbolic image

पटना कार्ट के प्रमुख और युवा उद्यमी अभिनव दास कहते हैं कि लॉकडाउन में लोगों की खासकर अकेले घरों मे रह रहे बुजुर्गों को देखकर मन में ख्याल आया कि लोग घरों में रहे और उन्हें सामान और सुविधा भी मुहैया हो जाए। इसके बाद कई दुकानों से बात कर यह काम प्रारंभ किया।

दास कहते हैं कि इस काम में ना केवल सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा जा रहा है बल्कि सामानों की गुणवत्ता और स्वच्छता का भी पूरा ध्यान रखा गया है। उन्होंने बताया कि इस कार्य से 10 -15 लोगो को रोजगार भी मिला है। वे कहते हैं, "पटना कार्ट एप से आप घर बैठे राशन के जरूरी सामान, सब्जी, फल, डेयरी उत्पाद, दवाई, पूजा सामग्री मंगवा सकते हैं। इसके अलावा बिजली मिस्त्री, प्लंबर, नाई, होम सैनिटाइजेशन एजेंसी और पंडित जी को भी घर बुला सकते हैं।"

symbolic image
symbolic image

वे दावे के साथ कहते हैं कि सभी सामग्रियों के उचित मूल्य रखे गए हैं। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि बुजुर्गों के लिए यह ऐप काफी लाभदायक साबित हुआ है। प्रतिदिन दवा के कई ऑर्डर आ रहे हैं। वे यह भी कहते हैं, "यह काम मैंने लाभ के लिए नहीं बल्कि लोगों को सुविधा देने के लिए प्रारंभ किया है।"

इधर, के मार्ट के अभिषेक सहाय कहते हैं कि ऑनलाइन ऑर्डर मिलने के बाद एक से दो घंटे में ऑर्डर के सामानों की आपूर्ति कर दी जाती है। उन्होंने कहा कि इस कार्य में पूरी एक टीम लगी है। उन्होंने कहा कि सामान मंगवाने के लिए अलग से कोई चार्ज भी नहीं देना पड़ता है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news