प्रसाद की थाली में प्याज रखकर बुरी तरह ट्रोल हुईं कंगना रनौत, ट्रोलर्स को ऐसे दिया जवाब

प्रसाद की थाली में प्याज रखकर बुरी तरह ट्रोल हुईं कंगना रनौत, ट्रोलर्स को ऐसे दिया जवाब

पंगा क्वीन कंगना रनौत किसी न किसी की वजह से हमेशा खबरों में बनी रहती हैं। कभी अपने कंट्रोवर्शियल स्टेटमेंट की वजह से तो कभी अपनी सोशल मीडिया पोस्ट्स की वजह से। एक बार फिर कंगना ट्रोलर्स के निशाने पर हैं।

पंगा क्वीन कंगना रनौत किसी न किसी की वजह से हमेशा खबरों में बनी रहती हैं। कभी अपने कंट्रोवर्शियल स्टेटमेंट की वजह से तो कभी अपनी सोशल मीडिया पोस्ट्स की वजह से। एक बार फिर कंगना ट्रोलर्स के निशाने पर हैं।

दरअसल अष्टमी के अवसर पर कंगना ने अपने फैंस को अष्टमी की शुभकामनाएं देने के लिए ट्विटर पर एक पोस्ट शेयर की थी और साथ में प्रसाद की थाली की फ़ोटो भी शेयर की थी। और ट्विटर यूज़र्स का ध्यान प्रसाद की थाली में रखे प्याज़ पर चला गया और इस के बाद ट्रोलर्स कंगना को जमकर ट्रोल करने लगे।

कंगना ने प्रसाद की थाली की फ़ोटो शेयर करते हुए लिखा था कि जब आपके घर में प्रसादम की थाली इस तरह दिखती हो, तो सोचिए व्रत रखना कितना मुश्किल होता है। इसके साथ ही उन्होंने अपने फैंस को अष्टमी की शुभकामनाएं भी दीं।

कंगना के इस ट्वीट के बाद जब यूजर्स ने प्रसाद की थाली में प्याज देखा तो उन्होंने कंगना को फेक हिन्दू से लेकर ढोंगी तक कह डाला। किसी ने लिखा कि प्रसाद की थाली में प्याज तो कभी नहीं रखा जाता। तो एक यूजर्स ने लिखा कि ओरिजिनल हिन्दू अष्टमी व्रत में प्याज नहीं खाते। आप फेक हिन्दू हो कंगना। एक अन्य यूजर ने कहा कि नवरात्रि का पहला नियम है नो लहसुन, नो प्याज। देखते ही देखते ट्विटर पर प्याज़ ट्रेंड करने लगा और कंगना जमकर ट्रोल होती रहीं।

ट्रोलर्स का मिजाज देखकर आखिरकार कंगना को अपनी सफाई देनी पड़ी और उन्होंने ट्रोलर्स को जवाब भी दिया कि यदि किसी को प्रसादम के साथ सलाद खाने की इच्छा हो तो उसका मज़ाक नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने लिखा, "यह किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं था, लेकिन हिंदुइज़्म की यही तो खूबसूरती है कि यह दूसरे धर्मों की तरह कट्टर नहीं है। इसकी यह खूबसूरती मत बिगाड़िए. मेरा आज व्रत है, लेकिन अगर मेरा परिवार प्रसादम के साथ सलाद खाना चाहता है तो उनका मजाक मत उड़ाइए। "

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news