sanjay dutt and A. G. Perarivalan
sanjay dutt and A. G. Perarivalan
मल्टीप्लेक्स

संजय दत्त को आधार बनाकर हाईकोर्ट पहुंचा राजीव गांधी हत्याकांड का आरोपी, मांगा एक्टर की रिहाई का ब्योरा

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी पेरारिवलन ने बंबई सिलसिलेवार बम विस्फोट कांड में दोषी ठहराए गए अभिनेता संजय दत्त की समय पूर्व रिहाई का ब्योरा मांगते हुए बंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है.

Yoyocial News

Yoyocial News

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी पेरारिवलन ने बंबई सिलसिलेवार बम विस्फोट कांड में दोषी ठहराए गए अभिनेता संजय दत्त की समय पूर्व रिहाई का ब्योरा मांगते हुए बंबई हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. बता दें कि दोषी को ए जी पेरारिवलन को नौ वोल्ट की दो बैटरियां उपलब्ध कराने के आरोप में 19 साल की उम्र में उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी. इन बैटरियों का इस्तेमाल उस बम में किया था, जिसके फटने से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की मृत्यु हो गई थी. इसी अपराध के लिए अब पेरारिवलन उम्रकैद की सजा काट रहा है. फिलहाल वह चेन्नई की पुझल सेंट्रल जेल में बंद है.

पिछले 29 सालों से सलाखों के पीछे रह रहे इस व्यक्ति ने पिछले सप्ताह वकील नीलेश उके के मार्फत बांबे हाईकोर्ट में अर्जी दी क्योंकि वह सूचना के अधिकार के तहत अपने सवालों का महाराष्ट्र जेल विभाग से जवाब हासिल करने में असफल रहा था. संजय दत्त को 2006-2007 में विशेष अदालत ने हथियार कानून के तहत दोषी ठहराया था और उन्हें छह साल की कैद की सजा सुनायी थी.

बाद में हाईकोर्ट ने इस फैसले पर मुहर लगायी थी लेकिन कारावास की अवधि घटाकर पांच साल कर दी थी. मई 2013 में संजय दत्त ने यरवदा जेल में अपनी सजा पूरी करने के लिए आत्मसमर्पण किया था. सजा के दौरान उन्हें कई मौको पर छुट्टी और पेरौल दिया गया तथा 25 फरवरी, 2016 को उन्हें 256 दिन पहले रिहा कर दिया गया था.

पेरारिवलन की याचिका के अनुसार उसने मार्च 2016 में यरवदा जेल को आरटीआई आवेदन देकर यह जानना चाहा कि संजय दत्त की समयपूर्व रिहाई से पहले केंद्र और राज्य सरकार की राय ली गयी थी या नहीं. जवाब नहीं मिलने पर वह अपीलीय प्राधिकरण के पास पहुंचा जिसने यह कहते हुए उसे सूचना देने से इनकार कर दिया कि इसका संबंध तीसरे व्यक्ति से है. फिर वह राज्य सूचना आयोग पहुंचा जिसने ‘अपर्याप्त और अस्पष्ट’ आदेश जारी किया. तब वह हाई कोर्ट की शरण में आया है. अगले सप्ताह पेरारिवलन की अर्जी पर सुनवाई होने की संभावना है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news