कोविड से दिल्ली को बचाने के लिए मोदी सरकार ने किए 4 बड़े काम, पीएम केयर से बना अस्पताल

पिछले साल की तरह दिल्ली में एक बार फिर कोविड 19 के कारण स्वास्थ्य सुविधाएं पटरी से उतरने लगीं तो अब केंद्र सरकार को मैदान में उतरना पड़ा है। पीएमओ के सीधे निगरानी में अब कार्य शुरू हुआ है।
कोविड से दिल्ली को बचाने के लिए मोदी सरकार ने किए 4 बड़े काम, पीएम केयर से बना अस्पताल

पिछले साल की तरह दिल्ली में एक बार फिर कोविड 19 के कारण स्वास्थ्य सुविधाएं पटरी से उतरने लगीं तो अब केंद्र सरकार को मैदान में उतरना पड़ा है। पीएमओ के सीधे निगरानी में अब कार्य शुरू हुआ है।

राजधानी में कोरोना संक्रमण से ग्रसित लोगों के इलाज और ऑक्सीजन की उपलब्धता के लिए पीएम केयर फंड से अस्पताल बनाने सहित चार प्रमुख कार्य अब तक मोदी सरकार ने किए हैं। कोविड 19 प्रबंधन से जुड़े केंद्र सरकार के एक उच्चस्तरीय अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, "यह संकट का समय है।

दिल्ली सरकार की हर मांग को केंद्र सरकार पूरी करने के लिए तैयार है। केंद्र और राज्य सरकार के मिलकर काम करने से ही राजधानी में उत्पन्न हुए गंभीर स्वास्थ्य संकट को खत्म किया जा सकता है। अगर राज्य सरकार सिर्फ आरोप लगाने के जगह केंद्र को सहयोग करें तो पिछले साल की तरह फिर से राजधानी को संकट से बाहर निकाला जा सकता है।"

केंद्र सरकार ने दिल्ली को कोरोना संक्रमण से बचाने और इलाज सुविधाओं को गति देने के लिए इस महीने कई अहम फैसले किए हैं। आईसीयू बेडों की संख्या को बढ़ाया गया है। ट्रेनों के कोच में कुल 1200 कोविड बेड की भी व्यवस्था हुई है। दिल्ली में ऑक्सीजन का कोटा भी बढ़ाया गया है। केंद्र के चार प्रमुख कार्य यहां हैं।

1- पीएम केयर फंड से अस्पताल

दिल्ली में आईसीयू बेड बढ़ाने की केंद्र सरकार ने पहल की है। पीएम केयर फंड से कुल 500 आईसीयू बेड वाले सरदार पटेल कोविड अस्पताल को फिर से दिल्ली कैंट में सक्रिय किया जा रहा है। आर्मी फोर्सेज मेडिकल सर्विसेज(एएफएमएस) और सेंट्रल आम्र्ड पुलिस फोर्सेज के मेडिकल स्टाफ की निगरानी में शुरू हुए इस अस्पताल में फिलहाल ढाई सौ आईसीयू बेड पर इलाज सुविधा 19 अप्रैल से शुरू हो चुकी है, वहीं अन्य 250 बेड पर कल तक मरीजों के भर्ती होने की प्रक्रिया शुरू होगी।

2- कोविड केयर सेंटर

दिल्ली के छतरपुर में फिर से सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर को सक्रिय किया जा रहा है। इस संबंध में गृहमंत्रालय ने आदेश भी जारी कर दिया है। यहां 500 ऑक्सीजन बेड की सुविधा हो रही है। जिसमें डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती के निर्देश जारी हुए हैं।

3- केंद्र सरकार के अस्पतालों में बढ़े बेड

केंद्र सरकार ने दिल्ली में अपने अधीन संचालित अस्पतालों में बेडों की क्षमता बढ़ाई है। केंद्र सरकार के अस्पतालों में बेडों की संख्या बढ़कर 4159 हुई है, जिसमें 730 आईसीयू बेड हैं। पहले केंद्र सरकार के अस्पतालों में 1090 बेड थे, जिसे बढ़ाकर 3623 किया गया है। इसमें डीआरडीओ हास्पिटल में 536 और बेड बढ़ाए गए हैं, जिसमें 250 आईसीयू बेड शामिल हैं। इस प्रकार केंद्र सरकार के अस्पतालों में बेडों की संख्या बढ़कर 4159 हुई है, जिसमें कुल 730 आईसीयू बेड हैं। इसमें 1200 बेड रेलवे कोच के भी शामिल हैं।

4- आक्सीजन का कोटा बढ़ा

केंद्र सरकार ने दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को देखते हुए आवंटन भी बढ़ाया है। दिल्ली सरकार को प्रतिदिन 378 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटन बढ़ाकर अब 480 मीट्रिक टन कर दिया गया है। ऑक्सीजन सप्लाई व्यवस्था की रियल टाइम मॉनीटरिंग करने के निर्देश जारी हुए हैं। ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़े वाहनों को रोके जाने आदि समस्याओं पर तुरंत कार्रवाई करने के लिए गृहमंत्रालय राज्यों को निर्देश दे चुका है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news