दिल्ली में बिना पंजीकरण हो सकेगा कोरोना वैक्सीनेशन

दिल्ली में बिना पंजीकरण हो सकेगा कोरोना वैक्सीनेशन

वैक्सीनेशन का समय सुबह 9 से शाम 5 बजे तक था, जिसे बढ़ा कर सुबह 9 से रात के 9 बजे यानि 12 घंटे तक का कर दिया गया है। ताकि लोग अपनी सुविधा के अनुसार वैक्सीन लगवाने के लिए जा सकें।

दिल्ली में अधिक लोग वैक्सीन लगवा सकें इसके लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से कुछ रियायत देने की मांग की थी। सीएम ने केंद्र सरकार को इस संबंध में पत्र भी लिखा था।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा सीएम के पत्र लिखने के बाद ही केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए उम्र सीमा 45 वर्ष किया है। दिल्ली सरकार के पास पर्याप्त संख्या में वैक्सीन उपलब्ध है।

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन कहा कि वैक्सीनेशन में एक दिक्कत यह आ रही थी कि लोगों को वैक्सीनेशन से पहले अपना पंजीकरण कराना पड़ता था। बहुत सारे लोग अपना पंजीकरण नहीं करा पाते हैं और अगर वे पंजीकरण करा भी लेते हैं, तो उन्हें वैक्सीन लगाने का जो दिन दिया जाता है, उस दिन वो किसी काम में व्यस्त होने की वजह से नहीं पहुंच पाते हैं और उन्हें वैक्सीन नहीं लग पाती है।

अब सरकार ने इसमें बदलाव कर दिया है। जिस वर्ग के व्यक्ति वैक्सीनेशन के लिए तय किए गए हैं वह शाम 3 बजे से रात 9 बजे तक यानि 6 घंटे तक कोई भी बिना पंजीकरण कराए ही वैक्सीनेशन कराने के लिए जा सकता है।

इससे पहले, वैक्सीनेशन का समय सुबह 9 से शाम 5 बजे तक था, जिसे बढ़ा कर सुबह 9 से रात के 9 बजे यानि 12 घंटे तक का कर दिया गया है। ताकि लोग अपनी सुविधा के अनुसार वैक्सीन लगवाने के लिए जा सकें। अभी तक यह होता था कि ज्यादातर लोग ऑफिस में काम करते हैं। उनकी ड्यूटी सुबह से शाम 6 बजे तक होती है।

रविवार को अवकाश होता है, तो उस दिन दिल्ली में वैक्सीनेशन नहीं होता है। इसलिए ऐसे लोगों को वैक्सीनेशन का सही समय नहीं मिल पा रहा था। हमने समय बढ़ा कर रात 9 बजे तक कर दिया है, ताकि लोग ऑफिस से घर वापस लौटने के दौरान अस्पताल में जाएं और वैक्सीन लगवा सकें। इसके लिए उन्हें कोई पंजीकरण कराने की जरूरत नहीं है। जिस दिन उन्हें समय मिले, उस दिन जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि ट्रेन और फ्लाईट के माध्यम से बाहर से दिल्ली आने वाले लोगों की जांच में भी गंभीरता बरती जा रही है। हमने रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट पर रैंडम टेस्टिंग शुरू करा दी है। दिल्ली देश की राजधानी है। इसलिए दिल्ली के लोग भी बाहर जाते हैं और बाहर से भी लोग दिल्ली आते हैं। ऐसे केस सामने आए हैं कि कोई दिल्ली से पंजाब गया और वापस आए, तो वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

जैन के मुताबिक कई लोग महाराष्ट्र से दिल्ली आए, तो वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इस तरह के केस सामने आ रहे हैं। दिल्ली में अचानक केस बढ़ने के संबंध में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना आसानी से खत्म नहीं हो रहा है।

हमारा भी शुरू से ही यही कहना रहा है कि यह मान कर हमें नहीं चलना चाहिए कि यह एकदम से खत्म हो जाएगा। इसे पूरी तरह से खत्म होने में लंबा समय लग सकता है।

सत्येंद्र जैन ने कहा कि लोग दो-तीन महीने सिद्दत से मास्क लगाते हैं और उसके बाद मास्क लगाना छोड़ देते हैं। यह नहीं पता है कि कोरोना वायरस का व्यवहार किस समय कैसा होगा। लेकिन जिस समय मौसम में बदलाव हो रहा है, उस समय कोरोना के केस एकदम से बढ़ रहे हैं।

जब सर्दी आई थी, तब केस बढ़े थे और गर्मी आई थी, तब बढ़े और अब फिर गर्मी आ रही है, तो केस बढ़ रहे हैं। फिर भी केस बढ़ने का कोई ठोस कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है। लेकिन केस बढ़ने के जो भी कारण हों, उससे बचाव का तरीका हम सभी को पता चल चुका है और हमें उन सभी बचाव के उपायों का शत प्रतिशत पालन करना चाहिए।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news