स्टॉकिंग के बढ़ते मामलों के मुद्दे पर दिल्ली महिला आयोग ने भेजा पुलिस को नोटिस

स्टॉकिंग के बढ़ते मामलों के मुद्दे पर दिल्ली महिला आयोग ने भेजा पुलिस को नोटिस

दिल्ली के मोती बाग इलाके से हाल ही में एक भयावह मामला सामने आया था, जिसमें एक 16 साल की लड़की पर कुल्हाड़ी से स्टॉकर द्वारा हमला किया गया था।

दिल्ली के मोती बाग इलाके से हाल ही में एक भयावह मामला सामने आया था, जिसमें एक 16 साल की लड़की पर कुल्हाड़ी से स्टॉकर द्वारा हमला किया गया था। मामले की जांच में पता लगा की हमलावर लड़का लंबे समय से लड़की के पीछे पड़ा हुआ था और एक दिन गुस्से में उसने लड़की की हत्या कर दी।

इस मामले की संगीनता को देखते हुए और दिल्ली में स्टॉकिंग के मुद्दे की गंभीरता के मद्देनजर दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस के सभी डीसीपी को नोटिस जारी किया और उनसे पूछा है की उनके क्षेत्र में पिछले 2 सालों से स्टॉकिंग के कितने मामले रिपोर्ट हुए हैं, कितनों ने एफआईआर दर्ज हुई, कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया एवं कितनों को बेल मिल गई। ये भी पूछा गया है की कितने लोगों पे स्टॉकिंग के एक से अधिक केस चल रहे हैं?

दिल्ली महिला आयोग स्टॉकिंग को एक बेहद संगीन अपराध मानता है और काफी बार इस के खिलाफ स़ख्त कार्यवाही न किए जाने के गम्भीर परिणाम होते हैं।

आयोग का मानना है की ऐसे मामलों में पहली शिकायत के बाद ही पुलिस की मुस्तैदी बेहद आवश्यक है। पहली बार ही ऐसी शिकायत मिलने पर पुलिस की जि़म्मेदारी है की शिकायतकर्ता लड़की की सुरक्षा का खास ध्यान रखा जाए।

दिल्ली पुलिस से यह भी पूछा गया है की उनके द्वारा स्टॉकिंग जैसे अपराध को रोकने के लिए क्या क्या कदम उठाए जाते हैं।

दिल्ली पुलिस को मामले की विस्तृत रिपोर्ट आयोग के समक्ष 21 जुलाई तक रखनी है, जिसके बाद आयोग इस विषय में सरकार एवं पुलिस दोनों को कानून एवं प्रशासनिक बदलाव के पु़ख्ता सुझाव देगा और उनपे अमल करवाएगा।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा, पिछले हफ्ते दिल्ली में एक रूह झकझोर देने वाला मामले हम सबने देखा जिसमें एक लड़के ने स्कूल जाने वाली एक बच्ची की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी।

हमारा मानना है स्टॉकिंग एक बेहद संगीन अपराध है और इसे जरा भी हल्के ने नहीं लिया जा सकता। हमने पुलिस से स्टॉकिंग के बढ़ते मामलों पर रिपोर्ट मांगी है, हम चाहते हैं ऐसे सिस्टम बनें जिसमें अपराधी ऐसा दुस्साहस करने की हिम्मत तक ना करे।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news