NCR में दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरीडोर परियोजना संचालित

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ RRTS परियोजना की कुल लागत 30274 करोड़ के सापेक्ष उत्तर प्रदेश सरकार की सहभागिता 6048 करोड़ है। इस कॉरिडोर की कुल लम्बाई 82 किमी0 है, जिसमें 2 डिपो सहित 24 स्टेशन होंगे और मोदीपुरम से दिल्ली की दूरी लगभग 1 घंटे में पूरी की जायेगी।
NCR में दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरीडोर परियोजना संचालित

रार्ष्टीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में दु्रत क्षेत्रीय परिवहन के माध्यम से समेकित गतिशीलता समाधान द्वारा भीड़-भाड़ व प्रदूषण को कम करने, शिक्षा, स्वास्थ्य व रोजगार के अवसरों तक नागरिकों की पहुॅच बढ़ाने व क्षेत्र के संतुलित व सतत आर्थिक विकास को गति देने हेतु रीजनल रैपिड ट्रॉजिंट सिस्टम (RRTS) के तहत दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरीडोर परियोजना संचालित है, जिसका व्यवसायिक संचालन वर्ष 2025 में लक्षित है।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ RRTS परियोजना की कुल लागत रू0 30274 करोड़ के सापेक्ष उत्तर प्रदेश सरकार की सहभागिता रू0 6048 करोड़ है। इस कॉरिडोर की कुल लम्बाई 82 किमी0 है, जिसमें 02 डिपो सहित 24 स्टेशन होंगे और मोदीपुरम से दिल्ली की दूरी लगभग 01 घंटे में पूरी की जायेगी।

साहिबाबाद व दोहाई के बीच 17 किमी0 प्राथमिक सेक्शन पर वर्तमान में निर्माण कार्य त्वरित गति से किया जा रहा है तथा इस सेक्शन पर परिचालन वर्ष 2023 से लक्षित है। इसके अतिरिक्त इस परियोजना के माध्यम से मेरठ नगर में मेट्रो का भी एक कॉरीडोर विकसित किया जायेगा, जिसमें मेरठ में परतापुर से लेकर मोदीपुरम तक लगभग 22 किमी0 तक के कॉरीडोर पर स्थानीय परिवहन (मेट्रो सेवायें) प्रदान के लिए RRTS के आधारभूत ढांचे का उपयोग किया जायेगा।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news