गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने मनाई सर छोटूराम की जयंती

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने मनाई सर छोटूराम की जयंती

किसानों, मजदूरों के हितों को लेकर सर छोटूराम ने हमेशा संघर्ष किया। अंग्रेजों के समय जब गेहूं के भाव नहीं बढ़े तो सर छोटूराम ने अंग्रेजों को भाव बढ़ाने पर मजबूर भी कर दिया था।

किसानों, मजदूरों के हितों को लेकर सर छोटूराम ने हमेशा संघर्ष किया। अंग्रेजों के समय जब गेहूं के भाव नहीं बढ़े तो सर छोटूराम ने अंग्रेजों को भाव बढ़ाने पर मजबूर भी कर दिया था। बसंत पंचमी के दिन मंगलवार को गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने इस महान किसान नेता सर छोटूराम की जयंती मनाई। गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद किसानों ने सर छोटूराम की जयंती पर उन्हें याद किया और उन्हें नमन करते हुए इनकी तस्वीर पर फूल भी चढ़ाए।

भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन ने बताया, "हम आज सर छोटूराम, जो कि एक बड़े किसान नेता रहे हैं, उनकी जन्म जयंती मना रहे हैं। उनको दीनबन्धु की उपाधि दी गई थी।

किसानों के कल्याण के लिए, खासतौर पर किसानों को एजुकेशन की तरफ ले जाने के लिए उन्होंने काम किया था। देशभर के सभी गांव में इनकी जयंती मनाने के लिए संदेश दिया गया है। छोटूराम जी गांव गांव के नेता थे इसलिए हर गांव में इनकी जयंती मनाई जा रही है।"

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा दीनबंधु सर छोटूराम की जयंती मनाने का आह्वान किया गया था, जिसके बाद गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने बॉर्डर पर छोटूराम को नमन किया।

दरअसल 83 दिनों से किसान दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहें हैं। बॉर्डर पर किसानों आंदोलन को लगातार तेज करने की कवायद जारी हैं। संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा देशभर में 18 फरवरी को रेल रोको के आह्वान की भी तैयारियां जोरों पर चल रही है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news