सरकार से कल की बातचीत से पहले आज किसानों का शक्ति प्रदर्शन, KMP एक्सप्रेस वे पर ट्रैक्टर मार्च

सरकार से कल की बातचीत से पहले आज किसानों का शक्ति प्रदर्शन, KMP एक्सप्रेस वे पर ट्रैक्टर मार्च

किसान संगठनों की ओर से 26 जनवरी के दिन दिल्ली के राजपथ पर ट्रैक्टर परेड की चेतावनी दी गई है. किसान संगठनों ने कहा है कि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर किसान परेड निकलेगी, इसकी झांकी आज, 7 तारीख को केएमपी एक्सप्रेस-वे पर देखने को मिलेगी।

आठ जनवरी को सरकार और किसानों के बीच नौवें दौर की वार्ता से पहले 7 जनवरी को किसान शक्ति प्रदर्शन करने जा रहे हैं। देश में किसानों का आंदोलन 43वें दिन में प्रवेश कर चुका है। सरकार और किसानों के बीच 8 राउंड की वार्ता फेल हो चुकी है, अब सुप्रीम कोर्ट सहित सबकी नजरें 8 जनवरी की वार्ता पर है। किसान तीनों कृषि कानूनों की वापसी की मांग पर अड़े हैं। सरकार कई बार भरोसा दिला चुकी है, लेकिन किसान मानने को तैयार नहीं है। किसानों की एक सूत्री मांग नए कृषि कानूनों को रद्द करने की है।

केएमपी एक्सप्रेस वे पर ट्रैक्टर यात्रा

7 जनवरी को संयुक्त किसान मोर्चा के तत्वाधान में गाजीपुर बॉर्डर से पलवल तक किसानों की ट्रैक्टर यात्रा निकलेगी। ये ट्रैक्टर यात्रा कुंडली मानेसर पलवल यानी कि केएमपी एक्सप्रेस वे पर निकाली जाएगी।

यह ट्रैक्टर यात्रा ईस्टर्न पेरिफेरल रोड पर दुहाई, डासना बील अकबरपुर, सिरसा होते हुए पलवल जाएगी और वहां से वापस आएगी। इस दौरान बील अकबरपुर और सिरसा कट से पलवल की तरफ जाने वाले वाहन 12:00 बजे दिन से सायं 3:00 तक पेरीफेरल रोड पर नहीं जा पाएंगे, इनको डाइवर्ट किया जाएगा। इसी प्रकार सिरसा कट और बील अकबरपुर से सोनीपत की तरफ जाने वाले वाहन 2:00 बजे से 5:00 बजे तक पेरीफेरल रोड पर नहीं जा पाएंगे, उन्हें डाइवर्ट किया जाएगा।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के स्टेट प्रेजिडेंट राजबीर सिंह ने कहा, “26 जनवरी को हमारे 'दिल्ली चलो' के एक ड्रेस रिहर्सल के रूप में हमारे किसान ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर ट्रैक्टर मार्च करेंगे और डासना इंटरचेंज से एक्सप्रेस-वे में प्रवेश करेंगे। बागपत से अन्य लोग भी डासना में शामिल होंगे। ट्रैक्टरों को ठीक से खड़ा किया जाएगा और ट्रॉलियां मार्च का हिस्सा नहीं होंगी। इसके बाद ट्रैक्टर ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे के माध्यम से पलवल जाएंगे और वापस डासना आएंगे।”

उन्होंने कहा, “हर ट्रैक्टर पर राष्ट्रीय ध्वज और बीकेयू का झंडा लगा होगा। अनुमान है कि लगभग 500-600 ट्रैक्टर इस रिहर्सल में भाग लेंगे। हमारे नेता पहले ही कह चुके हैं कि अगर हमारी मांगें पूरी नहीं हुईं, तो हम 26 जनवरी को दिल्ली जाएंगे। इसलिए, एक तरह से हम गुरुवार को पूर्वाभ्यास कर रहे हैं।”

यूपी गेट से सैकड़ों ट्रैक्टर NH-9 के दिल्ली-गाजियाबाद कैरिजवे से होते हुए डासना तक लगभग 19 किमी की दूरी तय करेंगे।

एनएचएआई के अधिकारियों ने कहा कि किसानों के ट्रैक्टर मार्च से दोनों प्रमुख हाईवे पर यातायात प्रभावित होगा।

योगेंद्र यादव ने बताया है कि 26 जनवरी को देश जो ऐतिहासिक गणतंत्र परेड देखने वाला है उसका एक ट्रेलर 7 जनवरी को दिखाई देगा। कल से दो हफ़्ते के लिए पूरे देश में देश जागरण का अभियान चलेगा। उन्होंने आगे कहा कि देश के कोने-कोने में प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं, इनको गहरा किया जाएगा ताकि इस झूठ का पर्दाफाश किया जा सके कि ये आंदोलन सिर्फ पंजाब, हरियाणा का है। उन्होंने आगे कहा कि देश के कोने-कोने में प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं, इनको गहरा किया जाएगा ताकि इस झूठ का पर्दाफाश किया जा सके कि ये आंदोलन सिर्फ पंजाब, हरियाणा का है। उधर, क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने बताया है कि 18 जनवरी को महिला किसान दिवस का आयोजन होगा। 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्म दिवस पर आजाद हिंद किसान दिवस मनाया जाएगा और 25-26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड निकाली जाएगी।

एनएचएआई के परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने कहा, “ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे में ट्रैक्टरों की अनुमति नहीं है और अगर किसान मार्च निकालते हैं तो ट्रैफिक बाधित होगा। हम इस बारे में जिले के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करेंगे।

गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे ने कहा कि उन्होंने किसानों से बात की है और उनसे नियम-कानूनों का पालन करने के लिए कहा है। साथ ही अधिकारियों की हमारी समिति पहले से ही किसान नेताओं के संपर्क में है। हम यह भी कहेंगे कि पुलिस को यह सुनिश्चित करने के लिए अधिक तैनाती करनी होगी ताकि यात्रियों को परेशानियों का सामना न करना पड़े।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news