दिल्ली हाईकोर्ट ब्लास्ट से जुड़े पाकिस्तानी आतंकी के तार, मोहम्मद अशरफ ने पुलिस के सामने किए बड़े खुलासे

आतंकी ने पूछताछ में ये भी खुलासा किया है कि जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने उसके सामने सेना के कई जवानों को अपहरण कर लिया था। कुछ समय बंधक बनाकर रखने के बाद उनकी गला रेतकर हत्या कर दी थी।
दिल्ली हाईकोर्ट ब्लास्ट से जुड़े पाकिस्तानी आतंकी के तार, मोहम्मद अशरफ ने पुलिस के सामने किए बड़े खुलासे

दिल्ली में गिरफ़्तार पाकिस्तानी आतंकी अशरफ़ को लेकर लगातार ख़ुलासे हो रहे हैं। मोहम्मद अशरफ वर्ष 2011 में दिल्ली हाईकोर्ट के सामने हुए बम धमाकों में शामिल रहा है। उसने दिल्ली हाईकोर्ट की कई बार रैकी की थी। आतंकी ने पूछताछ में ये भी खुलासा किया है कि जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने उसके सामने सेना के कई जवानों को अपहरण कर लिया था। कुछ समय बंधक बनाकर रखने के बाद उनकी गला रेतकर हत्या कर दी थी। इसके अलावा 2011 के आसपास इसने आईटीओ स्थित पुलिस हेडक्वाटर ( पुराना पुलिस हेडक्वाटर ) की रेकी की थी, आईएसबीटी की रेकी भी की थी।आतंकी अशरफ को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक सूचना के बाद इसे लक्ष्मी नगर इलाके के रमेश नगर से गिरफ्तार किया था।

इंडिया गेट और लाल किले की भी की थी रैकी
मोहम्मद अशरफ ने पूछताछ में बताया कि उसने इंडिया गेट और लाल किले की भी रैकी की थी। पूछताछ में करीब ऐसी 10 जगहों की रेकी करने की बात कबूल की है। पूछताछ में ये भी बताया कि वो नई दिल्ली के वीआईपी इलाके को टारगेट नहीं करना चाहता था क्योंकि वहां कम नुकसान होता है। ये सभी रैकी कई साल पहले करने की बात कर रहा है लेकिन अभी इसने कहा रैकी की, और कहा आतंकी वारदात को अंजाम देना चाहता था वो नहीं बताया है।

कालिंदी कुंज इलाके से हथियार बरामद
गिरफ्तार आतंकी की निशानदेही पर पुलिस ने दिल्ली के कालिंदी कुंज इलाके से हथियार बरामद किए हैं जिन्हें यमुना किनारे बालू में दबाया हुआ था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक इसकी निशानदेही से एके-47, मैगज़ीन, एक हैंड ग्रेनेड, 2 सॉफिस्टिकेटेड पिस्तौल और करीब 110 राउंड कारतूस बरामद हुए हैं।

पुलिस ने कहा कि आरोपी बांग्लादेश से होकर भारत आया था और फर्जी दस्तावेजों के जरिये पहचान पत्र बनवाने के बाद से वह देश में 10 साल से रह रहा था। पुलिस ने कहा कि आरोपी खुद को मौलाना बताता है। पुलिस के अनुसार, आरोपी की स्कूली पढ़ाई पूरी होने के बाद ही पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने उसे भर्ती किया और छह महीने का प्रशिक्षण दिया।

दिल्ली हाईकोर्ट ब्लास्ट के बारे में जानिए
7 सितंबर 2011 को हाईकोर्ट के गेट नंबर 4 और 5 के बीच धमाका हुआ था जिसमें 15 लोगों की मौत हुई थी और 79 लोग जख्मी हुए थे। करीब 200 लोग कोर्ट में अंदर जाने के लिए अपना पास बनवा रहे थे. धमाके की जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन हरकत उल जिहाद अल इस्लामी (हूजी) ने ली थी.

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.