प्रदर्शन स्थलों पर पुलिस ने बढ़ाई नाकाबंदी, शौचालय और पानी की सुविधाओं के लिए तरस रहे किसान

प्रदर्शन स्थलों पर पुलिस ने बढ़ाई नाकाबंदी, शौचालय और पानी की सुविधाओं के लिए तरस रहे किसान

सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वहां की गई उच्च स्तर की किलेबंदी ने शौचालय, स्वच्छ सुविधाओं और पानी तक उनकी पहुंच को खत्म कर दिया है।

दिल्ली के बॉर्डरों पर विरोध कर रहे किसानों को अब शौच करने के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है, वहां मौजूद किसानों का कहना है कि दिल्ली पुलिस विरोध को कमजोर करने के लिए बुनियादी जरूरतों में कटौती कर रही है।

सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वहां की गई उच्च स्तर की किलेबंदी ने शौचालय, स्वच्छ सुविधाओं और पानी तक उनकी पहुंच को खत्म कर दिया है।

29 जनवरी को सिंघु बॉर्डर पर कुछ लोगों ने खुद को स्थानीय बताकर पुलिस की उपस्थिति में किसानों के साथ गतिरोध पैदा किया। उसके बाद से पुलिस ने वहां बैरिकेडिग बढ़ा दी है और अतिरिक्त रास्ते भी बंद कर दिए है।

इसका मतलब 8 किलोमीटर की लंबी जगह पर विरोध कर रहे किसानों को अब शौचालय का इस्तेमाल करने के लिए या पानी पीने के लिए लंबा रास्ता लेकर जाना पड़ता है।

बैरिकेड्स और ब्लॉकिंग की दिल्ली की तरफ से की गई है इसलिए पंजाब और हरियाणा से आने वाली पानी की स्पलाई पर इसका कोई असर नहीं पड़ा है। लेकिन, दिल्ली सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए शौचालयों और पानी के टैंकरों की पहुंच बुरी तरह बाधित हो गई है।

पंजाब से सिंघु बॉर्डर पर विरोध करने आए एक जसवीर सिंह कहते हैं, “बैरिकेड्स लगाकर करके, पुलिस सप्लाई में कटौती करने और हमें डराने की कोशिश कर रही है। बुजुर्ग किसानों को एक पेट्रोल पंप के पास खुले में शौच करने या शौचालय तक पहुंचने के लिए लंबा रास्ता अपनाने के लिए मजबूर किया जा रहा है। दिल्ली सरकार के शौचालय, जो यहाँ से केवल कुछ मीटर की दूरी पर स्थापित हैं, अब हमारी पहुंच से परे हैं।”

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “सभी मार्गों को बंद नहीं किया गया है। हमने उनके लिए एक तरफ का रास्ता खुला रखा है और किसान दो चरणों के बीच आंतरिक गलियों का उपयोग कर सकते हैं और उस क्षेत्र में शौचालय का उपयोग कर सकते हैं। ”

टिकरी बॉर्डर परम प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सुरक्षा बलों द्वारा साइट तक पहुंच बंद करने के बाद शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएं विशेष रूप से महिला प्रदर्शनकारियों के लिए एक मुद्दा रहा है। हालांकि, स्थानीय निवासियों और कई एनजीओ और स्टार्टअप्स ने उनकी मदद की है।

स्थानीय निवासी भी किसानों को अपने घरों और दुकानों में शौचालयों को इस्तेमाल करने दे रहे हैं। टिकरी बॉर्डरों पर एक आयोजक चौधरी रणजीत सिंह ने कहा, “हमारे आसपास के लोग बेहद सहायक रहे हैं।

उन्होंने महिलाओं और वरिष्ठ नागरिकों को अपने व्यक्तिगत शौचालयों का उपयोग करने की अनुमति दी है। हम गैर सरकारी संगठनों और स्टार्टअप्स से भी संपर्क कर रहे हैं, ताकि हमें शौचालय निर्माण के लिए पैसे जुटाने में मदद मिल सके। सार्वजनिक शौचालय को अवरुद्ध कर दिया गया है और यह एक समस्या है।"

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news