दिल्ली में 14 साल की सबसे सर्द सुबह, 1 डिग्री के करीब पहुंचा तापमान

दिल्ली में 14 साल की सबसे सर्द सुबह, 1 डिग्री के करीब पहुंचा तापमान

उत्तर पश्चिमी मैदानी इलाकों के कई हिस्सों ने पिछले कुछ दिनों में सब-जीरो या 0 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज किया है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि इस साल निश्चित रूप से ठंड गंभीर है।

राष्ट्रीय राजधानी के कुछ इलाकों में नया साल दांत किटकिटाने वाली ठंड लेकर आया है। यहां कुछ स्थानों पर पारा 1.1 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है, जो कि इस सीजन में अब तक का सबसे कम तापमान है।

भारतीय मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूवार्नुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के अनुसार, दिल्ली में सुबह बहुत घना कोहरा होने से ²श्यता सीमा शून्य मीटर पर पहुंच गई। 7 जनवरी के लिए भी ऐसे ही धुंधले मौसम की भविष्यवाणी की गई है।

आईएमडी के अनुसार, इससे पहले शहर ने जनवरी 2006 में सबसे कम 0.2 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया था।

सफदरजंग वेधशाला में शहर का तापममान न्यूनतम 1.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि लोधी रोड में 1.4 डिग्री सेल्सियस, आयानगर में 4 डिग्री सेल्सियस, पालम में 4.1 डिग्री और रिज में 5.2 डिग्री तापमान दर्ज हुआ।

यह दिल्ली के सफदरजंग में पिछले एक दशक में जनवरी की अब तक की सबसे ठंडी सुबह रही। इससे पहले 2013 में 6 जनवरी को 1.9 डिग्री दर्ज किया गया था। यहां अब तक का सबसे कम तापमान 16 जनवरी 1935 में माइनस 0.6 दर्ज किया गया था।

निजी मौसम पूवार्नुमान एजेंसी स्काईमेट वेदर के महेश पलावत ने कहा, "कल (शनिवार) तापमान बढ़ेगा। वहीं 3 से 5 जनवरी के बीच बारिश होने की संभावना है।"

आईएमडी ने शनिवार और रविवार को हल्की बारिश या रिमझिम बारिश के साथ बादल छाए रहने की भविष्यवाणी की है। वहीं 4 जनवरी को आंधी और ओले गिरने की संभावना है, 5 जनवरी को हल्की बारिश होगी और आसमान में बादल छाए रहेंगे। आंकड़ों के अनुसार 5 जनवरी तक पारा 8 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा।

उत्तर पश्चिमी मैदानी इलाकों के कई हिस्सों में पिछले 2 दिनों से शून्य या इसके आसपास का न्यूनतम तापमान दर्ज किया जा रहा है।

गुरुवार को हरियाणा के हिसार में माइनस 1.2 डिग्री, जबकि राजस्थान के चुरू में माइनस 1.3 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

इस बीच दिल्ली में हवा की गुणवत्ता शुक्रवार को खराब रही और एआईक्यू 411 के साथ यह सीवियर जोन में रहा। वहीं इससे पहले गुरुवार को यह 'बहुत खराब' श्रेणी में था और एआईक्यू 347 था।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने कड़ी चेतावनी जारी करते हुए घर के बाहर निकलने के लिए मना किया है।

साथ ही असामान्य खांसी, सीने में तकलीफ, घरघराहट, सांस लेने में कठिनाई महसूस होने पर डॉक्टर से संपर्क करने के लिए कहा है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news