मध्य प्रदेश में कोरोना के खिलाफ खुद खड़ी होती जनता

मध्य प्रदेश में कोरोना के खिलाफ खुद खड़ी होती जनता

मध्य प्रदेश में कोरोना का संक्रमण सबके लिए चिंता का विषय बना हुआ है, यही कारण है कि सरकार से लेकर आमजन तक इसकी रोकथाम के लिए अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश में कोरोना का संक्रमण सबके लिए चिंता का विषय बना हुआ है, यही कारण है कि सरकार से लेकर आमजन तक इसकी रोकथाम के लिए अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। सरकार ने जहां कोरोना कर्फ्यू को प्राथमिकता दी है तो वहीं जनता भी अपने गांव में कर्फ्यू लगाने पर जोर दे रही है।

राज्य के कई इलाकों के गांव में जनता ने ही कर्फ्यू लगा दिया है, गांव की ओर जाने वाले रास्ते बंद हैं, बाहरी लोगों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। इतना ही नहीं गांव से वे लोग ही बाहर जा पा रहे हैं, जिनके लिए गांव से बाहर जाना बहुत जरुरी है। ग्रामीणजन अपने अपने गांव की सीमा को सील करते हुए बकायदा गांव से बाहर एवं बाहर के अंदर आने वाले व्यक्तियों की रजिस्टर में एन्ट्री भी की जा रही है।

उमरिया जिले के ग्राम बंधवाटोला में ग्रामीणों द्वारा जनता कर्फ्यू लगाया गया। यहां ग्रामीण स्वयं को कोरोना संक्रमण से बचाते हुए दूसरों को भी इस महामारी से बचने के लिए लोगों को घरों में ही रहने, बार-बार हाथों को सैनिटाइज करने, बेवजह घर से नहीं निकलने, दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी का संदेश दे रहे हैं।

ग्राम बंधवाटोला में लगातार पांच दिनों से जनता कर्फ्यू लागू है। बंधवाटोला में सरपंच व सचिव सहित कोरोना वॉलेंटियर्स गांव को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये सक्रिय भागीदारी निभा रहे हैं।

उमरिया जिला प्रशासन द्वारा चंदिया में सीनियर बालक छात्रावास में कोविड केयर सेन्टर शुरू किया गया है। यहां 20 बेड की व्यवस्था, निशुल्क उपचार तथा दवाई की व्यवस्था की गई है। सेन्टर में भाप की मशीन की आवश्यकता महसूस की गई।

तहसीलदार और थाना प्रभारी के प्रयासों से समाज सेवी आशुतोष अग्रवाल ने मरीजों के लिये तुरंत ही चार भाप की मशीन, चार बिजली के बोर्ड एवं दो कैपरी कोविड केयर सेन्टर चंदिया को उपलब्ध करवाये गये। उनकी इस पहल की सर्वत्र सराहना हो रही है।

राज्य के ग्रामीण इलाकों तक कोरोना का संक्रमण पहुंच चुका है, इस बात से हर कोई वाकिफ है, यही कारण है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के ग्रामवासियों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने और उस पर विजय प्राप्त करने के लिए आप लोग कोरोना को अपने गांव की सरहद में प्रवेश नहीं करने दें। अपने गांव को बंद रखें। जब जरूरत हो, तभी गांव के बाहर निकलें जब भी बाहर निकलें तो कोरोना गाइड-लाइन का पूरी तरह से पालन करें। स्वत स्फूर्त कर्फ्यू है, जनता कर्फ्यू।

मुख्यमंत्री की इस अपील का असर भी नजर आ रहा है। छतरपुर जिले के भी कई गांव में जनता कर्फ्यू लगा दिया गया है। गांव में बाहरी लोगों का प्रवेश बंद है। इसी तरह की खबरें राज्य के कई हिस्सों से भी आ रही है।

राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया है कि नए पॉजिटिव केस 12 हजार 389 दर्ज किए गए हैं, जबकि 14 हजार 562 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए हैं। प्रदेश के एक्टिव केसों में 2285 केस की कमी आई है। मध्यप्रदेश देश मे 14वें स्थान पर आ चुका है। प्रदेश में वर्तमान में 88 हजार एक्टिव केस हैं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news