मप्र में गरीबों को मिलेगी 10 रुपए में खाने की थाली, शिवराज ने किया योजना का उद्घाटन

मप्र में गरीबों को मिलेगी 10 रुपए में खाने की थाली, शिवराज ने किया योजना का उद्घाटन

इसमें सोमवार से शनिवार तक दस रुपए में सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक रोटी, सब्जी, दाल, चावल का प्रदाय थाली में किया जाएगा। मौसमी हरी सब्जी भी थाली में परोसी जाएगी।

मध्य प्रदेश में गरीबों को सस्ता और पौष्टिक भोजन दिलाने के लिए सौ दीनदयाल रसोई केंद्रों को शुरू किया गया है। इन केंद्रों से 10 रुपए में भोजन की थाली मिलेगी।

इस योजना के सौ केंद्रों का मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्चुअल उद्घाटन किया। बताया गया है कि नगरीय निकायों और स्वैच्छिक संस्थाओं ने वर्ष के 310 दिन दीन दयाल रसोई योजना का संचालन करने की व्यवस्था की है।

इसमें सोमवार से शनिवार तक दस रुपए में सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक रोटी, सब्जी, दाल, चावल का प्रदाय थाली में किया जाएगा। मौसमी हरी सब्जी भी थाली में परोसी जाएगी।

नए रसोई केन्द्रों की स्थापना और संचालन के लिए राज्य शासन ने 28 करोड़ रूपए की राशि मंजूर की है। ये केन्द्र शहरों में बस स्टैण्ड, रेलवे स्टेशन और जिला अस्पताल के आसपास प्रारंभ किए गए हैं। इन केन्द्रों को गूगल मैप की सहायता से ढूंढने की सुविधा भी प्रारंभ की गई है।

रसोई केन्द्र 52 जिला मुख्यालय और छह धार्मिक नगर मैहर, ओंकारेश्वर, महेश्वर, अमरकंटक, ओरछा और चित्रकूट में संचालित किए गए हैं।

रसोई केंद्रों का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गरीबों को सुस्वादु और पौष्टिक भोजन उपलब्ध करवाकर अनमोल दुआएं प्राप्त करें।

नगरीय निकाय और जो स्वैच्छिक संस्थाएं यह कार्य कर रही हैं, निश्चित ही बधाई की पात्र हैं। भूखे को भोजन और प्यासे को पानी पिलाने से नारायण मिल जाते हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रोटी, कपड़ा, मकान, पढ़ाई-लिखाई और दवाई बुनियादी जरूरतें हैं। कहा भी गया है भूखे भजन न हो गोपाला। अन्न ही ब्रह्म है। अपने गांव छोड़कर शहरों में आने वाले श्रमिक और अन्य लोग अपना और बच्चों का आसानी से पेट भर सकें, इस ²ष्टि से रसोई केन्द्र उपयोगी हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रम में मुरैना के ठेला लगाने वाले शकील, धार के ऑटोचालक बाबू सिंह, उज्जैन के पुताई श्रमिक संतोष, छतरपुर के फल विक्रेता मोहन और इंदौर के श्रमिक कालू सिंह से बातचीत की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हितग्राहियों से उन्हें दीनदयाल रसोई केन्द्र से मिलने वाले भोजन की गुणवत्ता के संबंध में भी पूछा। हितग्राहियों ने योजना में मिल रही सुविधा की जानकारी दी।

दीन दयाल रसोई योजना के लिए बनाए गए पोर्टल का लोकार्पण भी मुख्यमंत्री ने किया। इस पोर्टल से योजना का नियमित और सतत पर्यवेक्षण किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री ने योजना के क्रियान्वयन में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग की सराहना की।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news