बसपा मुखिया मायावती का कांग्रेस पर हमला, बोलीं, पार्टी रैलियों में दिहाड़ी पर लोगों को लाती है

बसपा मुखिया ने कहा कि बसपा टिकट के बदले किसी से पैसे नहीं लेती है। यह अवश्य है कि सदस्यता के नाम पर कुछ लोगों से मजबूरी में एडवांस पैसे जमा कराने पड़ते हैं। जिससे दूसरे आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्याशियों की मदद की जाती है।
बसपा मुखिया मायावती का कांग्रेस पर हमला, बोलीं, पार्टी रैलियों में दिहाड़ी पर लोगों को लाती है

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि देश में अब कांग्रेस की हालत बेहद खराब हैं। कांग्रेस तो रैलियों में दिहाड़ी पर लोगों को लाती है। यह कांग्रेस का भीड़ जुटाने का कल्चर है। मायावती ने शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस पर जमकर बरसी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पेट में दर्द इसलिए हो रहा है, क्योंकि वह चुनावी जनसभाओं में भीड़ जुटाने के लिए दिहाड़ी पर लोग लाती है। वहीं, दिहाड़ी मजदूर बहुत खुश होते हैं, क्योंकि बिना काम किए ही कांग्रेस की रैली में जाने पर ज्यादा पैसे मिलेंगे और खाना भी मिलेगा। इसी से कांग्रेस का हाल समझ में आता है। देश के साथ राज्यों में भी कांग्रेस की बहुत बुरी हालत है।

उन्होंने कहा कि यूपी में चुनाव लड़ाने के लिए कांग्रेस को प्रत्याशी तक नहीं मिलते हैं। बसपा कांग्रेस की तरह पैसे देकर चुनाव नहीं लड़ाती बल्कि जो खुद लड़ सके और जनाधार बढ़ा सके ऐसे उम्मदवारों को टिकट देती है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस को पहले अपना घर ठीक करना चाहिए।

बसपा मुखिया ने कहा कि बसपा टिकट के बदले किसी से पैसे नहीं लेती है। यह अवश्य है कि सदस्यता के नाम पर कुछ लोगों से मजबूरी में एडवांस पैसे जमा कराने पड़ते हैं। जिससे दूसरे आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्याशियों की मदद की जाती है। कार्यकर्ता चंदा कर भी आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्याशियों की मदद करते हैं। कहा कि हमारी पार्टी धन्ना सेठों की पार्टी नहीं है गरीबों और मजदूरों की पार्टी है। कांग्रेस तथा कुछ अन्य लोग इसका गलत प्रचार करते हैं। जिसका कोई खास लाभ उन्हें होने मिलने वाला नहीं है।

मायावती ने कहा कि पहले उनके कार्यकर्ता उनका जन्मदिन जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाते थे और उन्हें महंगे आभूषण और कपड़े लाख मना करने के बाद भी देते थे। इस पर उन्होंने इससे बिल्कुल मना कर दिया और कहा कि यदि वैसा चाहते ही हैं तो इसके बदले सदस्यता की किताब ले जाएं । अब हर बार उनका जन्मदिन इसी रूप में मनाया जाता है। कार्यकर्ता किताब ले जाते हैं और सदस्य बनाते हैं। इस तरह के आर्थिक सहयोग कि उनके यहां कोई मनाई नहीं है।

उन्होंने कहा कि देश में बीएसपी अकेली ऐसी पार्टी है जो कांग्रेस और अन्य पार्टियों की तरह अपने संगठन को चलाने और चुनाव लड़ने के लिए भी बड़े-बड़े पूंजीपतियों और धन्नासेठों से आर्थिक मदद नहीं लेती है। मायावती ने कहा कि इतना ही नहीं कांग्रेस तो धन लेने के एवज में उन्हें राज्यसभा आदि में भेजती है।

मायावती ने कांग्रेस की बुकलेट पर भी गहरी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले अपना घर ठीक करे। कांग्रेस ने बुकलेट में बसपा का काफी दुष्प्रचार किया है। मायावती ने कहा कि कांग्रेस एक नही दो चार जितनी चाहे बुकलेट जारी करे, कांग्रेस की झूठी बातों में जनता नही आने वाली है। पंजाब में अकाली दल के साथ मिलकर बसपा तो कांग्रेस को बाहर करने के बड़े अभियान में लगी है।

बसपा मुखिया मायावती ने एक बार फिर दोहराया कि उनका उत्तराधिकारी दलित वर्ग से ही होगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य खराब होने पर उत्तराधिकारी का ऐलान कर देंगी।

ज्ञात हो कि कांग्रेस पार्टी ने यूपी के विधानसभा चुनाव को देखते हुए एक बुकलेट जारी की है। जिसमें भाजपा, सपा, बसपा सभी सरकारों को लेकर निशाना साधा है। कांग्रेस उस पुस्तिक प्रत्येक जिले में बांटने की तैयारी कर रही है। उसी में बसपा मुखिया मायावती का कैरीकेचर बनाकर उनके शासन को कुशासन बताया गया है। बताया गया है कि मायावती टिकट बेंचती है। भाजपा की बी टीम और एनएचआरएम घोटाले का भी उल्लेख किया गया है। इसे ब्लाक-ब्लाक पहुंचाने के लिए कांग्रेस योजना तैयार कर रही है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news