कानपुर: जीका वायरस का कहर जारी, एक साथ 30 मरीज मिलने से शहर में हडकंप, 66 हुई संक्रमितों की संख्या

कानपुर में जीका वायरस के 30 नए केस सामने आए हैं. नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 66 तक पहुंच गई है. पोखरपुर में स्वास्थ्य विभाग की अपनी एक्टिव मोड में है और अधिकारी भी दौरा कर रहे हैं.
कानपुर: जीका वायरस का कहर जारी, एक साथ 30 मरीज मिलने से शहर में हडकंप, 66 हुई संक्रमितों की संख्या

जीका वायरस का खतरा कानपुर में बढ़ गया है. पिछले 24 घंटे में कानपुर में जीका वायरस के 30 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया है. जिला प्रशासन, नगर निगम और स्वास्थ विभाग की संयुक्त टीमें पोखरपुर, हरजिंदर नगर, श्याम नगर, ओम पुरवा, तिवारीपुर में संयुक्त सर्वे कर रही हैं और एंटी लार्वा स्प्रे के माध्यम से जीका वायरस के प्रसार की उम्मीदों को खत्म करने में जुटी हुई हैं

66 पहुंची संक्रमितों की संख्या
कानपुर में जीका वायरस के 30 नए केस सामने आए हैं. नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 66 तक पहुंच गई है. पोखरपुर में स्वास्थ्य विभाग की अपनी एक्टिव मोड में है और अधिकारी भी दौरा कर रहे हैं. कांटेक्ट ट्रेसिंग के साथ-साथ सर्विलांस टीम सैंपलिंग कर चुकी है, सोर्स रिडक्शन की कार्रवाई भी पूरी की जा चुकी है.

400 मीटर तक होती है मच्छर की रेंज
एसीएमओ डॉक्टर आरएन सिंह ने बताया कि, पहला केस पोखरपुर के रहने वाले और एयरफोर्स में काम करने वाले एमएम अली का निकला था. घर के पीछे ब्रीडिंग प्लेस देखे थे जो बहुत ज्यादा तादाद में मिले थे. उन्होंने बताया कि इसके मच्छर की रेंज 400 मीटर तक होती है और जिसको काटेगा वो जीका वायरस से संक्रमित हो जाएगा. इसके लिए सोर्स रिडक्शन की करीब 100 टीमें लगी हुई हैं. फोकल स्प्रे की 100 टीमें लगी हैं और सर्विलांस की भी 100 टीमें लगी हुई हैं.

कराई जा रही है सघन फॉगिंग
डॉक्टर आरएन सिंह ने बताया कि, पोखरपुर इलाके में ही 17 नए संक्रमित सामने आए हैं. 3 किलोमीटर की रेडियस में काम कर रहे हैं. पोखरपुर, हरजिंदर नगर, श्याम नगर, ओम पुरवा, न्यू आजाद नगर, शिव कटरा, लाल कुर्ती, तिवारीपुर, बगिया इलाकों में 100 टीमें लगी हुई हैं, जो रोकथाम का काम कर रही हैं. घर-घर जाकर समझाया जा रहा है मच्छर दिन के टाइम और साफ पानी में काटता है. डरने की जरूरत नहीं है, लोगों को पैनिक होने की जरूरत नहीं है अपने आप को सुरक्षित रखने की जरूरत है. उन्होंने बताया कि नगर निगम की तरफ से सघन फॉगिंग कराई जा रही है. दिन में 2 बार फॉगिंग हो रही है. फॉगिंग से एडल्ट मॉस्किटो मर जाते हैं, सोर्स रिडक्शन का जो काम किया जा रहा है वो सफल होगा.

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news