'हाल-ए-ताजमहल': कोविड-19 के बाद जानें कितना बदला ताज

'हाल-ए-ताजमहल': कोविड-19 के बाद जानें कितना बदला ताज

कोरोना काल मे बंदी के बाद खुले ताजमहल में जनवरी महीने में पर्यटकों की संख्या बेहद अच्छी रही, जबकि बीते साल के सितंबर से लेकर दिसंबर तक ये संख्या इतनी खास नहीं थी। हालांकि कोविड-19 के बाद खुले ताजमहल में पर्यटकों को कोई परेशानी न हो।

कोरोना काल मे बंदी के बाद खुले ताजमहल में जनवरी महीने में पर्यटकों की संख्या बेहद अच्छी रही, जबकि बीते साल के सितंबर से लेकर दिसंबर तक ये संख्या इतनी खास नहीं थी।

हालांकि कोविड-19 के बाद खुले ताजमहल में पर्यटकों को कोई परेशानी न हो इसके लिए फिलहाल कन्जर्वेशन का काम चल रहा है और पर्यटकों की बेहतरी के लिए आगामी दिनों में ताजमहल के अंदर कई प्रोजेक्ट्स पूरे किए जाएंगे।

ताजमहल में कोरोना के कारण कुछ प्रोजेक्ट अटक गये थे जिन्हें अब पूरा किया जा रहा है। ताजमहल के अंदर जल्द ही पब्लिक अड्रेस सिस्टम लगेंगे। इस सिस्टम से पर्यटकों को एक साथ किसी भी घटना या कोई भी जानकारी साझा कर दी जाएगी।

योलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के सुपरिटेंडेंट वसंत स्वर्णकार का कहना है कि, जल्द ही ताजमहल में पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगेगा, इस सिस्टम से किसी भी प्रकार की घटना या इमरजेंसी में हम सबको एक साथ सूचित कर सकेंगे।

दरअसल ये स्पीकर होंगे जो ताजमहल के अंदर विभिन्न जगहों पर लगाए जाएंगे, इसका एक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा जहां से ये सारे सिस्टम ऑपरेट होंगे। उन्होंने आगे कहा कि, इस तरह का सिस्टम भारत के किसी भी मॉन्यूमेंट्समें नहीं है, ताजमहल में ये सुविधा मार्च महीने तक सुचारू रूप से चालू की जाएगी।

ताजमहल में आए दिन लोगों के पर्स खो जाते हैं, जिन्हें बाद में पर्यटक घंटो घूमने के बाद उन्हें कंट्रोल रूम से लेता है। वहीं ताजमहल घूमने आए पर्यटकों के बच्चे वहीं इधर उधर गुम हो जाते हैं। इन्ही सब समस्याओं से निपटने के लिए ये पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगाए जाएंगे।

दरअसल ताजमहल बीते साल 17 मार्च को कोविड-19 की वजह से बंद हुआ था। 180 दिनों से अधिक तक बंद रहने के बाद ताजमहल 21 सितंबर को खुला था।

यदि हम आंकड़ों पर नजर डालें तो कोविड-19 के बाद खुले सितंबर महीने में कुल 17,007 पर्यटकों ने ताजमहल का दीदार किया, जिनमें 16,878 भारतीय तो 129 विदेशी पर्यटक रहे। वहीं अक्टूबर के महीने में कुल 71,209 पर्यटक रहे, इनमें 70,618 भारतीय और 591 विदेशी पर्यटक शामिल हैं।

नवंबर महीने में कुल 83,345 पर्यटक ताजमहल देखने आए, इनमें 82,624 भारतीय और 721 विदेशी पर्यटक थे। दिसंबर महीने में कुल 1,27,071 पर्यटक यहां पहुंचे जिनमें 1,26,133 भारतीय तो 938 विदेशी पर्यटक थे।

ये कहना गलत नहीं होगा कि इस साल की शुरूआत ताजमहल के लिए काफी अच्छी रही। क्योंकि जनवरी के महीने में 2.50 लाख से अधिक भारतीय पर्यटक आए, जबकि 1,380 विदेशी पर्यटकों ने ताजमहल देखा।

ताजमहल में कार्यरत अधिकारियों के अनुसार, पर्यटकों की संख्या में सुधार आ रहा है वहीं शनिवार और इतवार को अन्य दिनों के मुकाबले संख्या बढ़ जाती है। ताजमहल घूमने आ रहे अधिकांश विदेशी पर्यटक या तो दूतावास (इम्बेसी) से जुड़े हैं या तो वो भारत मे ही किसी कंपनी में कार्यरत हैं।

हालांकि ताजमहल के इर्द गिर्द खुल रही दुकानों के मालिकों की मानें तो व्यापार तो चल रहा है लेकिन जब तक विदेशी पर्यटक नहीं आएंगे तब तक व्यापार में वो बात नहीं रहेगी। वहीं नेटवर्क की समस्या होने के कारण पर्यटकों को ऑनलाइन टिकट करने में भी परेशानी होती है।

राष्ट्रीय स्मारक सुरक्षा समिति के अध्यक्ष सयैद मुन्नवर अली ने आईएएनएस को बताया कि, ताजमहल के आस पास करीब 200 दुकाने हैं जिनमें हैंडलूम, रेस्टोरेंट आदि शामिल हैं। ताजमहल खुलने से राहत तो है लेकिन पहले जैसे हालात नहीं बन पा रहे हैं।

दूसरी ओर ताजमहल में मौजूद फोटोग्राफर्स और टूरिस्ट गाइड भी ताजमहल खुलने से खुश तो हैं लेकिन उनके काम पर असर दिखाई नहीं दे रहा है।

ताजमहल में कुल 464 फोटोग्राफर मौजूद हैं जिनके पास लाइसेंस है। वहीं ये सभी लोग स्लॉट वाइज काम कर रहे हैं यानि एक दिन 232 फोटोग्राफर आते हैं तो वहीं अगले दिन बाकी।

भारतीय पुरातत्व स्मारक फोटोग्राफर एसोसिएशन के सदस्य किशन गोपाल कुशवाह ने आईएएनएस को बताया कि, कोरोना काल में तो सब कुछ बंद रहा था। हम सभी घर बैठने पर मजबूर हो गए थे, हालांकि ताजमहल खुल तो गया है लेकिन हमारे काम पर इसका उतना असर नहीं हुआ है। हर पर्यटक के पास महंगे फोन हैं। हम उनसे पूछते हैं तो हमें अपने फोन के बारे में बता देता है। महंगे फोन में अच्छे कैमरे की बात करता है, जिसकी वजह से हमसे फोटो क्लिक नहीं कराते।

उन्होंने आगे कहा कि, सुरक्षा के चलते भी ये फोन बंद होने चाहिए क्योंकि पर्यटक ताजमहल के अंदर से भी लाइव प्रस्तुति करने लगते हैं।

विदेशी पर्यटकों के नहीं आने से टुरिस्ट गाइड भी परेशान हैं क्योंकि उनके अनुसार भारतीय पर्यटक जो आ रहे है वे सभी 100 किलोमीटर के दायरे के हैं।

ताजमहल के बाहर खड़े टुरिस्ट गाइड जमील उर रहमान ने आईएएनएस को बताया, ताजमहल में भारतीय पर्यटक 100 किलोमीटर के दायरे के हैं, इसमें इनको गाइड की जरूरत नहीं होती है।

फिलहाल अभी अधिकतर पर्यटकों को ताजमहल में इंटरनेट कनेक्टिविटी की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है, जिसके लिए ताजमहल में कार्यरत अधिकारी काम कर रहे हैं। वहीं जल्द ही पर्यटकों को इस समस्या से भी निजात मिल जाएगी।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news