यूपी में मुरादाबाद जेल के कैदी पर धारदार चम्मच से हमला

मुरादाबाद जेल के दो कैदियों ने धारदार चम्मच को हथियार के रूप में इस्तेमाल कर जेल में बंद कैदी का गला काटने की कोशिश की। पीड़ित कैदी संतोष कुमार गंभीर रूप से घायल हो गया है, और उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
यूपी में मुरादाबाद जेल के कैदी पर धारदार चम्मच से हमला

मुरादाबाद जेल के दो कैदियों ने धारदार चम्मच को हथियार के रूप में इस्तेमाल कर जेल में बंद कैदी का गला काटने की कोशिश की। पीड़ित कैदी संतोष कुमार गंभीर रूप से घायल हो गया है, और उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। संतोष कुमार लूट और हत्या के मामले में जेल की सजा काट रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो आरोपी कैदियों ने संतोष कुमार को घेर कर उस पर हमला कर दिया।

जेल अधीक्षक वीरेश राज शर्मा ने कहा कि बैरक में भीड़भाड़ है और कैदियों के बीच झगड़ा हुआ था जिसमें कुमार घायल हो गया था।

उन्होंने कहा कि 717 की क्षमता वाली जिला जेल में वर्तमान में 3,000 से अधिक कैदी बंद हैं। उन्होंने कहा कि कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है और जेल मैनुअल के अनुसार ही कार्रवाई की जाएगी।

शर्मा ने कहा कि एक कैदी द्वारा चम्मच से हमला किए जाने के बाद संतोष की गर्दन में मामूली चोटें आईं है। इससे पहले भी एक बार उसे पीटा जा चुका है

संतोष ने बताया कि यह दूसरी बार है जब जेल में मुझ पर हमला किया गया और उन्होंने मुझे मारने की कोशिश की गई। मैंने जेल अधिकारियों से शिकायत की थी, लेकिन उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

बदायूं जिले के रहने वाले संतोष कुमार को पहले संभल जिले के चंदौसी इलाके में उसके गिरोह के सदस्यों भूप सिंह, नीरज, जितेंद्र और महेंद्र के साथ एक जौहरी की कथित हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

3 जुलाई को उसने एक जौहरी की कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और 2 लाख रुपये का कीमती सामान लूट लिया गया था।

जिसके बाद कुमार को जिला जेल भेज दिया गया, जहां उसे शाहनवाज और सलीम उर्फ छोटू, दोनों कुख्यात अपराधियों के साथ बैरक चार में रखा गया था।

हालांकि, जेल अधीक्षक ने कुमार के आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि किसी को मारने का प्रयास नहीं किया गया था। यह सिर्फ एक झगड़ा था। हम जेल मैनुअल के अनुसार कार्रवाई कर रहे हैं और इसे जेल रिकॉर्ड में कदाचार के रूप में माना जाएगा।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.