यूपी में ग्रेटर नोएडा के बाद अब बसाया जाएगा नया नोएडा, विकास प्राधिकरण को सौंपे गए 80 गांव

यूपी में ग्रेटर नोएडा के बाद अब बसाया जाएगा नया नोएडा, विकास प्राधिकरण को सौंपे गए 80 गांव

नोएडा की तर्ज पर दादरी और बुलंदशहर के 80 गांवों का अधिग्रहण करके नया नोएडा विकसित किया जाएगा। यह शहर अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। यह आने वाले सात आठ सालों में निवेश, विकास, रिहाइश का बेहतरीन गंतव्य होगा।

यूपी सरकार ने दादरी नोएडा गाजियाबाद इन्वेस्टमेंट रीजन में नई रिहायशी व इंडस्ट्रियल टाउनशिप विकसित करने का जिम्मा नोएडा को दिया है। पहले यह काम यूपीसीडा को करना था। औद्योगिक विकास विभाग ने शुक्रवार को इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी।

औद्योगिक विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव आलोक कुमार ने बताया कि वर्ष 2017 की इस योजना में यूपीसीडा प्रगति नहीं कर सका। नोएडा इस काम में सक्षम है। इसलिए औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना के निर्देश पर यह निर्णय लिया गया।

नोएडा की तर्ज पर दादरी और बुलंदशहर के 80 गांवों का अधिग्रहण करके नया नोएडा विकसित किया जाएगा। यह शहर अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। यह आने वाले सात आठ सालों में निवेश, विकास, रिहाइश का बेहतरीन गंतव्य होगा। इस नए शहर को विकसित करने का मकसद प्रदेश में निवेश की संभावनाओं को बढ़ावा देना है। इस शहर का हिस्सा रिहायशी और इंडस्ट्रियल टाउनशिप दोनों होंगी। जिसमें कम प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों और लॉजिस्टिक्स यूनिट को लगाया जाएगा।

योगी सरकार बुलंदशहर के आगे 80 गांवों को मिलाकर नया नोएडा बसाने की तैयारी कर रही है। इन 80 गांवों को नोएडा विकास प्राधिकरण को दे दिया गया है। नोएडा की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने इस बारे में बताया कि प्रस्ताव को शासन के पास भेजने के बाद राज्यपाल ने इसको मंजूरी दे दी है। अब दादरी और सिकंदराबाद तहसील के 80 गांव वाले क्षेत्र में नोएडा विकास प्राधिकरण औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने का काम करेगा। दिल्ली मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर भारत और जापान की संयुक्त परियोजना है। इस कॉरिडोर के जरिए दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश को जोड़ा जाएगा।

नए नोएडा को नोएडा की तरह ही विकसित किया जाएगा। नया नोएडा में अत्याधुनिक सुविधाओं के आधारभूत ढांचे का विकास किया जाएगा। परियोजना का उद्देश्य यह है कि अगले कुछ सालों बाद यह क्षेत्र निवेश और आवास के लिए लोगों को आकर्षित करे। नया नोएडा में औद्योगिक क्षेत्र भी होंगे और रिहायशी इलाके भी होंगे। ऐसी फैक्ट्रियां यहां लगाई जाएंगी जिससे प्रदूषण कम से कम हो। नया नोएडा के विकास से उत्तर प्रदेश में निवेश की संभावनाओं को और बल मिलेगा।

नया नोएडा में आवासीय व्यवस्था के लिए भी बिल्डर्स ऐसी टाउनशिप का विकास करेंगे जिसमें अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। यहां मेट्रो, मोनो रेल और फ्लाईओवर्स निर्माण की योजना है। नया नोएडा ऐसा बनाया जाएगा जहां बड़ी कंपनियां निवेश करने के लिए आकर्षित हों। इस मकसद से 80 गांवों को नोएडा विकास प्राधिकरण को सौंपे गए हैं। इस प्राधिकरण को नोएडा के विकास करने का अनुभव है, साथ ही इसके पास विकास के लिए जरूरी संसाधन भी हैं।

नया नोएडा बसाने के लिए इन गांवों का होगा अधिग्रहण मिल्क खंडेरा, नगला चमरू, नगला चीती, नगला नैनसुख, फूलपुर, रघुनाथपुर अगराई, आशादेवी, आसफपुर, बबाया, बड़ौदा, भराना, भटोला, भौखेड़ा, बिरौंदी फौलादपुर, बिरौंदी तेजपुर, बिसवाना, बोढ़ा, बुटैना, चन्द्रावली, चोला, दीनौल, धरौड़, घेमेरा नारा, धीमरी एदलपुर, दुल्हारा, फरीदपुर, गोपालपुर, हसनपुर जागीर, ह्दयपुर, जोखाबाद, जौली, काहिरा, कैथरा, कनवारा, करौली, खैरपुर तिला, किशनपुर, कोनाडू, लौथर, लुहाकर, महिपा जागीर, मोहिद्दीनपुर नगैला, मेहताबनगर, मल्हपुर, मसौता, मोरादाबाद, नगला बड़ौदा, नगला शेख, नैथला हसनपुर, नेकमपुर, निजामपुर, पचौता, पीरबियाबनी, राजारामपुर, राजपुर खुर्द, रुपवास पंचगई, सब्दलपुर, सैथाली, सराय घासी, सेनवली, शाहपुर कलां, सिखैरा, सुतारी, तालाबपुर, आनंदपुर, बील अकबरपुर, बैरंगपुर, चन्द्रावल, चीरसी, चीती, छयांसा, दयानगर, देवटा, फजलपुर, खंडेरा गिरजापुर, कोट, राजपुर कलां, शाहपुर खुर्द, उमराला।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news