प्रयागराज: दूसरे दिन भी होली के जश्न में डूबे लोग, निराली होती है यहां की कपड़ा फाड़ होली

प्रयागराज: दूसरे दिन भी होली के जश्न में डूबे लोग, निराली होती है यहां की कपड़ा फाड़ होली

प्रयागराज में तीन दिनों तक सड़कों पर भीड़ के साथ रंग खेलने की अनूठी परंपरा है। यहां सड़कों पर सैकड़ों होलियारों की भीड़ आज दूसरे दिन भी रेन डांस करते हुए अबीर-गुलाल उड़ाकर होली की मस्ती में सराबोर नजर आ रही है।

देश के तमाम हिस्सों में होली का हुल्लड़ भले ही खत्म हो गया हो, लेकिन संगम नगरी प्रयागराज में आज दूसरे दिन भी जमकर अबीर-गुलाल उड़ाये जा रहे हैं।

प्रयागराज में तीन दिनों तक सड़कों पर भीड़ के साथ रंग खेलने की अनूठी परंपरा है। यहां सड़कों पर सैकड़ों होलियारों की भीड़ आज दूसरे दिन भी रेन डांस करते हुए अबीर-गुलाल उड़ाकर होली की मस्ती में सराबोर नजर आ रही है।

चौक मोहल्ले में मिलेनियम स्टार अमिताभ बच्चन और देश के पहले पीएम पंडित नेहरू के पुश्तैनी घरों के पास होलियारों की भीड़ जुटी हुई है। होली की मस्ती में सराबोर भीड़ का यह नजारा लोगों को बरबस ही कान्हा की नगरी मथुरा और वृन्दावन की याद दिला देता है।

कपड़ा फाड़ होली के लिए मशहूर प्रयागराज -

होलियारों की टोली यहां दूसरे दिन सड़कों पर निकलने वाले किसी के भी कपड़े फाड़ देती है, लेकिन कोई भी इसका बुरा नहीं मानता। कपड़ा फाड़कर उसे हवा में लहराने की अनूठी परंपरा की वजह से ही यहां की दूसरे दिन की होली को कपड़ा फाड़ होली भी कहा जाता है।

दूसरे दिन सड़कों पर शाम तक रंग चलता है और इसके बाद जगह-जगह गीत-संगीत व कवि सम्मेलन के आयोजन होते हैं।

पंडित नेहरू और अमिताभ बच्चन भी प्रयागराज में रहने के दौरान ना सिर्फ यहां की कपड़ाफाड़ होली में शामिल होते थे, बल्कि ये दोनों इसके आयोजन का हिस्सा भी बनते थे।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news