गाजीपुर: राहगीरों के लिए मुसीबत बनी सड़क, थोड़ी से दूरी के लिए भी लगता है घंटों समय
उत्तर प्रदेश

गाजीपुर: राहगीरों के लिए मुसीबत बनी सड़क, थोड़ी से दूरी के लिए भी लगता है घंटों समय

जानकारी के बाद भी अधिकारी या जनप्रतिनिधि इस समस्या पर ध्यान नहीं दे रहे हैं । सड़क से करीब दर्जनों गांव जुड़े हुए हैं जिसके चलते हमेशा आवागमन बना रहता है ।

Yoyocial News

Yoyocial News

भांवरकोल क्षेत्र के गाजीपुर - बलिया जाने वाली सड़क से जुड़ी नरसिंहपुर सुखडेहरी मार्ग से अमरूपुर प्राथमिक विद्यालय तक जाने वाली सड़क की दशा बेहद दयनीय है।

इस मार्ग की दूरी लगभग 5 किलोमीटर है लेकिन इतनी दूरी तय करने में लोगों को घंटे लग जाते हैं।

सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे मौजूद हैं और बरसात में पानी भर जाने से बहुत खतरनाक साबित हो रहा है। इस पर गुजरने में राहगीरों को जान हथेली पर ही रखती है । जरा सी लापरवाही करने पर राहगीर गिरकर चोटिल हो जाते हैं । इन दिनों मार्ग पर वाहन तो दूर पैदल भी अब चलना मुश्किल हो गया है ।

जानकारी के बाद भी अधिकारी या जनप्रतिनिधि इस समस्या पर ध्यान नहीं दे रहे हैं । सड़क से करीब दर्जनों गांव जुड़े हुए हैं जिसके चलते हमेशा आवागमन बना रहता है ।

पांडे के पूरा से लेकर अमरूपुर तक लगभग 4 साल पहले इस सड़क को बनाया गया था। इसका किसी तरफ से निर्माण किया।

यह देखने से ही पता चल जाता है पूरे सड़क की गिटिटयां बिखर गई है और सड़क के बीचो-बीच बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं । जिस में बरसात का पानी भर गया है।

सड़क पर कीचड़ हो जाने से एक कदम भी चलना काफी दुश्वार हो गया है । मोहम्मदाबाद विधानसभा के अमरूपुर के पांडे का पूरा राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय रोगियों को जाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है तथा ग्राम पंचायत तड़का के राजस्व ग्राम आराजी बुडैल्ला उर्फ पांडे का पूरा स्थित राजेश्वर महादेव डिग्री कॉलेज जाने वाली सड़क स्थिति भी दयनीय है।

इस सड़क पर 800 मीटर कच्ची मिट्टी डालकर छोड़ दिया जो नरसिंहपुर बांटा मार्ग से जुड़ती है (इंदुवा मौजा )से राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय तक कई बार सर्वे के बावजूद भी इस सड़क पर कोई काम नहीं किया गया ।

सबसे बड़ी समस्या छात्र स्टॉप महाविद्यालय और रोगियों को चिकित्सालय पहुंचने में होती है । मार्ग सही ना होने के कारण सुबह से डॉक्टर आकर बैठे हुए शाम को इसी तरफ चले जाते हैं एक भी रोगी सड़क सही ना होने के चलते नहीं आ पाता है ।

आपातकाल के समय इस मार्ग पर कोई वाहन नहीं मिलता है कि मरीजों को अस्पताल ले जा सके वही गर्भवती महिलाओं को भी प्रवासन पीड़ा के दौरान काफी परेशानी उठानी पड़ती है।

राम जी पांडेय, श्रीकांत पांडेय, अजय पांडेय, साधु, जोखन राजभर, राधे मोहन राजभर, शांतनु पांडेय, बली यादव इत्यादि ने लोगों ने जिम्मेदार अधिकारियों का ध्यान इस समस्या के और आकृष्ट करने का अनुरोध की है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news