ODOP को मिलने जा रही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और उंची उड़ान, पब्लिसिटी और ब्रांडिंग की बन रही है खास योजना

ODOP को मिलने जा रही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और उंची उड़ान, पब्लिसिटी और ब्रांडिंग की बन रही है खास योजना

उत्तर प्रदेश सरकार की बहुआयामी योजना एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) को अब राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और उंची उड़ान मिलने जा रही है। इसके लिए पब्लिसिटी, ब्रांडिंग और मार्केटिंग की खास योजना बनाई गई है।

उत्तर प्रदेश सरकार की बहुआयामी योजना एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) को अब राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और उंची उड़ान मिलने जा रही है। इसके लिए पब्लिसिटी, ब्रांडिंग और मार्केटिंग की खास योजना बनाई गई है। इसके तहत एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों पर अब स्टाल लगाए जाएंगे, जहां सिर्फ ओडीओपी उत्पाद की ही बिक्री होगी।

इसके अलावा ओडीओपी उत्पादों की ब्रांडिंग और प्रचार के लिए हर जिले में स्टेशनों, सरकारी भवनों और प्रमुख सार्वजनिक स्थानों पर ग्लो शाइन बोर्ड लगाए जाएंगे। इन बोर्ड की डिजाइन उस जिले के ओडीओपी उत्पाद के अनुरूप होगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2018 में प्रदेश के अलग-अलग जिलों में वहां के पारंपरिक शिल्पकला, विशिष्ट कृषि आदि के उद्यम को सुगठित उद्योग-कारोबार का दर्जा देने के लिए ओडीओपी योजना का शुभारंभ किया था।

मंशा बिलकुल साफ थी जिलों के हुनर की परंपरा को व्यावसायिक रूप देकर हुनरमंदों को इस कदर स्वावलंबी बनाना, जिससे वह अपनी उद्यमिता के विस्तार से रोजगारदाता भी बन सकें। तीन सालों में ओडीओपी से हर जिले में पारंपरिक उद्यम की न सिर्फ मजबूत पहचान बनी है, बल्कि इसके बाजार में भी तेजी से विस्तार हुआ है।

यूपी के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि ओडीओपी को बढ़ावा देने के लिए सरकार लगातार प्रयासरत है। इसके दायरे में आने वाले उत्पादों की प्रदर्शनी-महोत्सव के आयोजन के साथ सरकार इन उत्पादों को राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ा बाजार दिलाने के लिए भी सतत प्रयत्नशील है।

सरकार के इन्हीं प्रयासों की कड़ी में रेलवे स्टेशनों और एयरपोर्ट पर ओडीओपी स्टाल खोले जाएंगे। इसके लिए इन स्थानों पर जमीन लीज पर लेकर स्टाल लगाने के इच्छुक लोगों को दी जाएगी।

स्टाल लगाने वाले के साथ 15 साल का अनुबंध इस शर्त के साथ होगा कि वह सिर्फ ओडीओपी उत्पाद ही बेचेगा। रेलवे स्टेशनों और एयरपोर्ट पर देश के अन्य राज्यों के अलावा विदेश से भी काफी सैलानी आते हैं, यहां स्टाल होने पर ओडीओपी के यूनिक प्रोडक्ट उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने में सफल होंगे और उन्हें बड़ा बाजार भी मिल सकेगा।

यूपी सरकार ओडीओपी को सुपर ब्रांड बनाने में भी लगातार प्रयासरत है। ब्रांडिंग के लिए शासन के ओडीओपी सेल ने हर जिले में प्रचार के लिए फंड आवंटित किया है। इसके लिए ग्लो शाइन बोर्ड बनाए जा रहे हैं, जिन्हें स्टेशनों के अलावा प्रमुख सार्वजनिक स्थानों और सरकारी भवनों पर लगाया जाएगा।

इन स्थानों पर फुटफाल बहुत अधिक होता है और यहां आने वाले लोग बार-बार ओडीओपी उत्पाद के बारे में जान सकेंगे। ग्लो शाइन बोर्ड की डिजाइन संबंधित जिले के ओडीओपी उत्पाद के अनुरूप होगी।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news