मुख्यमंत्री योगी की 'अभ्युदय योजना' के लिए युवाओं में होड़, 20 घंटे में हो गये लगभग 1 लाख पंजीकरण

मुख्यमंत्री योगी की 'अभ्युदय योजना' के लिए युवाओं में होड़, 20 घंटे में हो गये लगभग 1 लाख पंजीकरण

करीब 46 हजार से अधिक युवाओं ने केवल सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए पंजीयन कराया है। इनमें 5,833 अभ्यर्थी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा और 965 युवा सिविल सेवा साक्षात्कार की तैयारी के इच्छुक हैं।

सिविल सेवा, नीट, जेईई, सीडीएस और एनडीए जैसी प्रतिष्ठित प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता की राह दिखाने वाली मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अभ्युदय योजना को लेकर प्रदेश के युवाओं ने जबरदस्त उत्साह दिखाया है।

इसे लेकर प्रतियोगी छात्रों की उम्मीदों को इस बात से समझा जा सकता है कि अभ्युदय पोर्टल की शुरुआत के महज 20 घंटे के भीतर 97 हजार से अधिक प्रतियोगी छात्रों ने अपना पंजीयन करा लिया है।

करीब 46 हजार से अधिक युवाओं ने केवल सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए पंजीयन कराया है। इनमें 5,833 अभ्यर्थी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा और 965 युवा सिविल सेवा साक्षात्कार की तैयारी के इच्छुक हैं।

यही नहीं, मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट के लिए 4000 से अधिक और जेईई के लिए 2500 युवाओं ने पंजीकरण करा लिया है। पंजीकरण का यह आंकड़ा हर मिनट बढ़ता ही जा रहा है। अभ्युदय कक्षाओं की शुरूआत बसंत पंचमी से होनी प्रस्तावित है।

राज्यस्तरीय समिति के सदस्य मंडलायुक्त लखनऊ, रंजन कुमार ने बताया कि मुख्यमंत्री के विशेष प्रयास वाली इस योजना को लेकर युवाओं में उत्साह स्वाभाविक था, लेकिन पोर्टल शुरू होने के शुरुआती 20 घंटों में जिस तेजी के साथ पंजीकरण हुए हैं, वह योजना की सफलता की तस्वीर पेश करती है।

उन्होंने बताया कि बुधवार को देर रात करीब 11 बजे अभ्युदय का पोर्टल लाइव हुआ। गुरुवार शाम करीब साढ़े 7 बजे तक 10.51 लाख बार वेबसाइट विजिट की गई।

कुल अलग-अलग परीक्षाओं के लिए कुल 97549 अभ्यर्थियों का पंजीकरण पूर्ण हो चुका है। यह ऐसे अभ्यर्थी हैं, जिन्होंने अपने ईमेल से ओटीपी सत्यापन भी कर दिया है।

मुख्यमंत्री योगी अभिनव पहल को लेकर प्रदेश के वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों में भी खूब उत्साह है। अभ्युदय कक्षाओं में प्रतियोगी छात्रों से यह अधिकारी सीधा संवाद करेंगे।

मुख्य सचिव आरके तिवारी, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एमएसएमई नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा आलोक कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार और सुरेंद्र सिंह जैसे वरिष्ठ आईएसएस अधिकारी प्रतियोगी छात्रों से सीधे मुखातिब होंगे और छात्रों की जिज्ञासाओं का समाधान करेंगें।

यही नहीं, ई-लर्निग पोर्टल पर इन अधिकारियों के वीडियो लेक्चर और मोटिवेशनल वीडियो भी उपलब्ध होंगे।

सिविल सेवा, जेईई और नीट जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता की चाह रखने वाले युवाओं के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खास 'मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना' की शुरुआत की है।

प्रदेश का कोई भी युवा जो सिविल सेवा, नीट, जेईई, बैंकिंग, टीईटी जैसी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा हो, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इस खास पहल का लाभ ले सकता है।

इस अभिनव कोचिंग में ऑनलाइन स्टडी मैटेरियल और लेक्च र आदि तो उपलब्ध होंगे ही, ऑफलाइन क्लास में आईएएस और पीसीएस परीक्षा के लिए प्रशिक्षु आईएएस, आईपीएस, आईएफएस (वन सेवा), पीसीएस अधिकारियों द्वारा मार्गदर्शन दिया जाएगा। जबकि एनडीए और सीडीएस की परीक्षा के लिए प्राचार्य, उत्तर प्रदेश सैनिक स्कूल द्वारा गाइडेंस मिलेगी।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news