गूगल, एंड्रॉयड-12 पर फाइलों को हटाने के लिए 'ट्रैश बिन' फीचर पर कर रहा काम

गूगल कथित तौर पर एंड्रॉइड 12 पर फाइलों को हटाने के लिए ट्रैश बिन नामक एक फीचर पर काम कर रहा है। एक्सडीए डवलर्प्स के अनुसार, स्पॉटेड कोड से पता चलता है कि गूगल, एंड्रॉइड के छिपे हुए रीसायकल बिन / ट्रैश फीचर को स्टोरेज सेटिंग्स में जाकर देख सकता है।
गूगल, एंड्रॉयड-12 पर फाइलों को हटाने के लिए 'ट्रैश बिन' फीचर पर कर रहा काम

गूगल कथित तौर पर एंड्रॉइड 12 पर फाइलों को हटाने के लिए ट्रैश बिन नामक एक फीचर पर काम कर रहा है। एक्सडीए डवलर्प्स के अनुसार, स्पॉटेड कोड से पता चलता है कि गूगल, एंड्रॉइड के छिपे हुए रीसायकल बिन / ट्रैश फीचर को स्टोरेज सेटिंग्स में जाकर देख सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल, गूगल ने एंड्रॉइड 11 को हटा दिया था, जो इस तरह से बड़े बदलावों को लागू करता था कि ऐप्स डिवाइस के स्टोरेज तक पहुंच सकें।

इन परिवर्तनों को, गूगल "स्कोप्ड स्टोरेज" कहता है, एक ऐप द्वारा स्टोरेज एक्सेस की मात्रा को डिफॉल्ट रूप से सीमित कर सकता है।

जबकि कुछ एप्लिकेशन जैसे फाइल प्रबंधक डिवाइस के संग्रहण में व्यापक पहुंच का अनुरोध कर सकते हैं। अन्य ऐप्स को स्टोरेज में फाइलों को जोड़ने, खोलने, संपादित करने या हटाने के लिए वैकल्पिक एपीआई का उपयोग करना पड़ता है।

इनमें से एक एपीआई को मीडियास्टोर एपीआई कहा जाता है और यह आम मीडिया फाइलों जैसे ऑडियो, वीडियो और फोटो तक देता है।

मीडियास्टोर अभी कुछ समय से आया है, लेकिन गूगल ने एपीआई के लिए एंड्रॉइड 11 रिलीज के साथ एक नई सुविधा ट्रेशिंग को जोड़ा है।

जो लोग मीडियास्टोर एपीआई का उपयोग करते हैं उन्हें फाइल को ट्रैश करने के बाद उसे पुर्नस्थापित करने का मौका दिया जाता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकांश डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम में एक समान विशेषता है, लेकिन एंड्रॉइड 11 एक सिस्टम-वाइड 'रीसाइकल बिन' या 'ट्रैश' फोल्डर प्रदान नहीं करता है जो ट्रैश की गई सभी फाइलों को सूचीबद्ध करता है।

इसके बजाय, ट्रैश की गई फाइलों तक पहुंच को संपादित करने वाले या उपयोगकर्ता की सहमति के अनुरोध वाले ऐप्स छिपे हुए रीसायकल बिन से चीजें दिखा सकते हैं, और हमने सबूतों को देखा है कि गूगलऐप द्वारा गूगल फाइलें एक ऐसी सुविधा को जोड़ने की तैयारी कर रही है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news