डेटा विवादों के बीच भारतीय यूजर्स को पसंद आ रहा कू, ट्विटर का देशी वर्जन या फिर कुछ और..! आखिर क्या है ये 'कू'

डेटा विवादों के बीच भारतीय यूजर्स को पसंद आ रहा कू, ट्विटर का देशी वर्जन या फिर कुछ और..! आखिर क्या है ये 'कू'

इस ऐप को अब तक 10 लाख से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं। सबसे पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने इस ऐप की जानकारी ट्विटर पर दी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने 'मन की बात' कार्यक्रम में इसकी चर्चा भी कर चुके हैं।

पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर Koo App ने धूम मचा रखी है। इस ऐप को देसी ट्विटर कहा जा रहा है। हाल ही में केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच हुए टकराव के बीच ये ऐप तेजी से पॉपुलर हुआ है।

इस ऐप को अब तक 10 लाख से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं। सबसे पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने इस ऐप की जानकारी ट्विटर पर दी थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने 'मन की बात' कार्यक्रम में इसकी चर्चा भी कर चुके हैं।

आइए जानते हैं Koo App और Twitter में क्या फर्क है:-

Koo App के ज्यादातर फीचर्स Twitter से मिलते जुलते ही हैं। हालांकि दोनों में कुछ बातों का अंतर है।

- Twitter अमेरिका की कंपनी है जबकि Koo एक भारतीय App है।

- Twitter सिर्फ अंग्रेजी भाषा में है जबकि Koo App हिंदी, अंग्रेजी समेत 8 देशी भाषाओं में उपलब्ध है।

- Twitter में शब्दों की सीमा 280 है जबकि Koo App में शब्दों की सीमा 350 रखी गई है।

- Twitter पर डिटेल्स लीक होने का खतरा हो सकता है लेकिन Koo एक देसी App है इसलिए जानकारियां देश के सर्वर में ही सेफ रहेंगी।

- Koo App पर Twitter की ही तरह से पोस्ट और फोटो-वीडियो शेयर कर सकते हैं।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news